आ गई कोरोना की तीसरी लहर? डब्ल्यूएचओ ने कही ये बात

भारत के लिए चिंता की बात यह है कि पिछले काफी दिनों से कोरोना संक्रमण के कम हो रहे मामलों में पिछले दो दिन से बढ़ोतरी हो रही है। 14 जुलाई को जहां संक्रमण के नए मामले 38,792 आए, वहीं 15 जुलाई को यह 41,896 हो गया। इससे पहले यानी 13 जुलाई को देश में कुल 31,443 नए मामले आए थे।

कोरोना की दूसरी लहर कम होने से देश की केंद्र और राज्य सरकारों के साथ ही लोग भी राहत महसूस कर रहे थे, लेकिन इस बीच कोरोना की तीसरी लहर की आहट ने पूरे विश्व के साथ ही भारत की भी चिंता बढ़ा दी है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आपातकालीन समिति ने 15 जुलाई को कोरोना के खतरे को लेकर चेतावनी जारी कर दी है। उसके अनुसार महामारी का जो रुप अभी दिख रहा है, वह मात्र ट्रेलर है, भविष्य मे इसकी और खतरनाक तस्वीर सामने आ सकती है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि आने वाले दिनों में कोरोना के नए वैरिएंट के फैलने की आशंका है, जिस कारण इस महामारी को खत्म करना और मुश्किल हो सकता है।

शुरुआती दौर में तीसरी लहर
हालांकि भारत में अभी ये उतना खतरनाक नहीं हुआ है और अभी भी तीसरी लहर आने की आशंकाएं जताई जा रही हैं, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि विश्व में कोरोना की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस अधानोम गेब्रयेसस ने कहा कि विश्व में कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत हो चुकी है। दुनिया भर में कोरोना के केसों और मौत के आंकड़ों को एक बार फिर बढ़ने को लेकर चेतावनी देते हुए टेड्रोस ने कहा कि दुर्भाग्य से हम कोरोना की तीसरी लहर के शुरुआती दौर में हैं।

111 देशों में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट
टेड्रोस ने कहा कि दुनिया के 111 देशों में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट पहुंच चुका है। हमें आशंका है कि यह दुनिया में कोरोना संक्रमण का यह सबसे घातक स्ट्रेन साबित होगा।

ये भी पढ़ेंः जानिये, अब तक कोरोना के मिले कितने वैरिएंट और कौन है कितना घातक?

भारत के लिए चिंता की बात
भारत के लिए चिंता की बात यह है कि पिछले काफी दिनों से कोरोना संक्रमण के कम हो रहे मामलों में पिछले दो दिन से बढ़ोतरी हो रही है। 14 जुलाई को जहां संक्रमण के नए मामले 38,792 आए, वहीं 15 जुलाई को यह 41,896 हो गया। इससे पहले यानी 13 जुलाई को देश में कुल 31,443 नए मामले आए थे।

ये भी पढ़ेंः विदेशी मुस्लिम आक्रांताओं का इतिहास मिटाएगा यूजीसी! कैसे, जानने के लिए पढ़ें ये खबर

नीति आयोग ने चेताया
नीति आयोग के स्वास्थ्य मंत्रालय के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने इस बारे में कहा है कि विश्व में कोरोना की तीसरी लहर देखी जा रही है और इससे देश को बचाने के लिए सबको सावधान रहने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि इस बात की चिंता कि कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी, करने के बजाय इस बात पर जोर देने की जरुरत है कि तीसरी लहर को कैसे रोका जाए।

ये राज्य बढ़ा रहे हैं चिंता
भारत में केरल और महाराष्ट्र समेत देश के कुछ राज्यों में कोरोना के काफी मामले पाए जा रहे हैं। प्राप्त आंकड़ों के अनुसार केरल में जहां पूरे देश के कुल मामलों के 32 प्रतिशत केस पाए जा रहे हैं, वहीं महाराष्ट्र में 21 प्रतिशत मामले पाए जा रहे हैं। इसके साथ ही पूर्वोत्तर राज्यों मणिपुर, मेघालय, नगालैंड, मिजोरम में भी कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी हुई है।

कावड़ यात्रा पर रोक
इसे देखते हुए 25 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा पर उत्तराखंड सरकार ने रोक लगा दी है, हालांकि उत्तर प्रदेश  सरकार ने अभी तक इस बारे में कोई घोषणा नहीं की है, लेकिन समझा जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार भी कांवड़ यात्रा पर रोक लगा देगी।

महाराष्ट्र सतर्क
महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने भी प्रतिबंधों में किसी भी तरह की ढील देने से मना कर दिया है। काफी दबाव के बावजूद भी सरकार ने आम जनता को मुंबई लोकल में यात्रा करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है।

पीएम ने दी चेतावनी
बता दें कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए पर्यटन स्थलों पर लोगों की बढ़ती भीड़ और कोरोना के नियमो के पालन नहीं किए जाने पर चिंता जताई थी। इस स्थिति में कोरोना को रोकने की जिम्मेदारी केवल सरकार की ही नहीं, देश के सभी लोगों की है। कोरोना के साधारण नियमों का पालन कर आप आने वाली तबाही से देश को बचा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here