कपिल को भी छल गया छाबड़िया!

कॉमेडियन कपिल शर्मा को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने समन भेजा है। उन्हें यह समन दिलीप छाबरिया से जुड़े मामले में पूछताछ के लिए भेजा गया है। बता दें कि हाल ही में कार डिजाइनर करने के नाम पर करोड़ों के घोटाला करने के मामले में दिलीप छाबड़िया को हाल ही में गिरफ्तार किया गया है।

कॉमेडियन कपिल शर्मा को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने समन भेजा है। उन्हें यह समन दिलीप छाबड़िया से जुड़े मामले में पूछताछ के लिए भेजा गया है। बता दें कि हाल ही में कार डिजाइनर छाबड़िया को करोड़ों के घोटाला करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है।

बता दें कि कपिल शर्मा ने दिलीप छाबड़िया पर अपने साथ धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज कराया है। उन्होंने इसके सबूत के तौर पर अपने पास छाबड़िया का कॉल रिकॉर्ड होने का दावा किया है।

कपिल शर्मा ने दर्ज कराया अपना बयान
पुलिस द्वारा समन दिए जाने के बाद कपिल शर्मा ने 7 जनवरी को मुंबई पुलिस के क्राइम इंटेलीजेंट यूनिट के कार्यालय में जाकर अपना बयान दर्ज कराया। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बात करते हुए बताया, ‘2017 में मैंने छाबड़िया से एक बैनिटी वैन ली थी। उसी समय इसके पूरे पैसे चुका दिए थे। जब मुझे डीसीआर अवंति के मालिक छाबड़िया के घोटाले के बारे में पता चला तो मैंने खुद मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह से मुलाकात की और उन्हें अपनी गाड़ी के बारे में बताया। उन्होंने कहा था कि आप इस बारे में मुंबई पुलिस के क्राइम इंटेलीजेंट यूनिट में आकर अपना बयान दर्ज करा दीजिएगा। उसी सिलसिले में मैंने सीएसटी के क्राइम इंटेलीजेंट यूनिट के कार्यालय में जाकर अपना बयान दर्ज कराया।

दिलीप छाबरिया की हो चुकी है गिरफ्तारी
बता दें कि वाहनों का मोडीफिकेशन कर उन्हें बेचने का बिजनेस करनेवाली डीसी डिजाइनर कंपनी के मालिक दिलीप छाबड़िया को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसपर 127 गाड़ियों के घोटाला करने का आरोप है। इस मामले में डीसी डिजाइनर कंपनी पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी ने एक ही गाड़ी के रजिस्ट्रेशन पर दो गाड़ियां बेचने का गैरकाूनी काम किया है। इन गाड़ियों पर लोन भी लिया गया। इस तरह करोड़ों के टैक्स बचाए जाने की भी आशंका है।

90 गाड़ियां बरामद
कंपनी पर 127 गाड़ियों के घोटाला करने का आरोप है। इनमें से 90 गाड़ियों को बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि अभी बाकी गाड़ियों के बारे में पता लगाया जा रहा है। अपराध शाखा के सह पुलिस आयुक्त मिलिंद भारंबे ने बताते हुए कहा कि एक गाड़ी की कीमत 42 लाख है। प्राथमिक जांच-पड़ताल में इस तरह 40 करोड़ के घोटाले का खुलासा हुआ है।

ये भी पढ़ेंः नहीं रहेगा बेईमान मौसम!

 नंबर एक, रजिस्ट्रेशन दो जगहों पर
भारत के पहले स्पोर्ट्स कार में इस तरह का मोडिफिकशन किया गया था। मुंबई पुलिस को डीसी अवंतिका कार में गलत रजिस्ट्रेशन किए जाने की जानकारी मिली थी। इसके लिए पुलिस ने होटल ताज के पास जाल बिछाया और इस गाड़ी को अपने कब्जे में ले लिया। इस गाड़ी के नंबर का हरियाणा और चेन्नई में दो जगहों पर रजिस्ट्रेशन किए जाने का खुलासा हुआ। उसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच-पड़ताल शुरू कर दी। उसके बाद एक-एक कर कुल 127 गाड़ियों के घोटाले का पर्दाफाश हुआ।

2016 से काम कर रही है कंपनी
डिसी डिजाइनर गाड़ियों की खरीद-फरोख्त का व्यवसाय करती है। इस घोटाले का खुलासा होने के बाद ग्राहकों में भी खलबली मच गई है। फिलहाल 90 गाड़ियां बरामद भी कर ली गई हैं। कंपनी द्वारा एक ही चेसीस नंबर और इंजन नंबर पर दो गाड़ियों के बेचे जाने का मामला उजागर हुआ है। इस गाड़ी के लिए रोनॉल्ड कंपनी कके इंजन का इस्तेमाल किया गया था। इसके बाद दलीप छाबरिया को गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि कंपनी 2016 से इस तरह के घोटाला कर रही है। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here