चाइनीज वायरस से उबरे नहीं कि अब चाइनीज रॉकेट भी झेलो! पढ़ें कैसे सिर आपका और खतरा चीन का मंडरा रहा

चीन द्वारा दिया गया नया खतरा धरती का प्रति 90 मिनट में चक्कर लगा रहा है। जिसकी गति 17,149 किलोमीटर प्रति घंटा है। यह किस देश पर गिरेगा इसकी कोई जानकारी किसी के पास नहीं है।

चीन विश्व को दुख देने का नया सामान आकाश में छोड़ चुका है। यह भारत समेत दुनिया के लिए वज्रपात है जो चीनी वायरस के भयंकर संक्रमण से जूझ रहे हैं। चीन का जानलेवा सामान 21 टन का है और उसकी विफलता का प्रमाण है।

पिछले सप्ताह 29 अप्रैल को चीन का लॉंग मार्च 5बी चाइनीज स्पेस स्टेशन से छोड़ा गया था। इसे तियानहे स्पेस स्टेशन के निर्माण के लिए मॉड्यूल लेकर छोड़ा गया था। जो 2022 तक कार्यरत् होगा। इस कार्य को करने के बाद रॉकेट को धरती पर सुरक्षित लौटना था। लेकिन चीन ने इस पर से नियंत्रण खो दिया है।

ऐसा है रॉकेट
अंतरिक्ष में भेजा गया रॉकेट 100 फीट लंबा और भार में 21 टन का है। वर्तमान समय में यह पृथ्वी के लो अर्थ ऑर्बिट में चक्कर लगा रहा है। इसकी धरती से दूरी लगभग 170 किलोमीटर से 372 किलोमीटर की उंचाई पर है, जबकि गति 25, 490 किलोमीटर प्रतिघंटा है।

ये है रॉकेट – बेहद कठिन दौर में भारत चीन संबंध – विदेश मंत्री

गिरा तो मचा देगा तबाही
अनियंत्रित रूप से पृथ्वी की कक्षा में विचरण कर रहे रॉकेट के बारे में अभी ठीक से ज्ञात नहीं है कि यह कब धरती पर गिरेगा और कहां गिरेगा। ऐसा अनुमान है कि धरती के वायुमंडल में प्रवेश करते ही इसका अधिकांश हिस्सा जलकर खत्म हो जाएगा लेकिन जो बचा हिस्सा भी किसी निवासी क्षेत्र पर गिरेगा वह तबाही मचाने के लिए काफी होगा।

चीन का घमंड चकनाचूर
इस रॉकेट के छोड़े जाने के बाद चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के सेंट्रल पॉलिटिकल और लीगल अफेयर्स कमीशन ने सिना वायबो अकाउंट से फोटो पोस्ट किया था। इसमें तियाना मोड्यूल की एक ओर फोटो थी और दूसरी ओर भारत में कोरोना के कारण जल रही चिताओं को दर्शाया गया था। इसको शीर्षक दिया गया था ‘चाइना लाइटिंग फायर वर्सेस इंडिया लाइटिंग ए फायर’। इसका विश्व में तीव्र तीव्र विरोध हुआ तो पोस्ट को हटा दिया गया।

ये भी पढ़ें – आइपीएल का यह सीजन अब संभव नहीं! पूर्व क्रिकेटर ने बताए ये कारण

चीन का यह घमंड लंबा नहीं चला और उसका रॉकेट अनियंत्रित होकर धरती पर दूसरा कहर बरपाने की तैयारी में है। यानी चीनी वायरस से विश्व अपने लोगों के प्राण गंवा रहा है इसी बीच चीन चालबाजों ने नया खतरा दे दिया है।

पहले भी चीनी रॉकेट धड़ाम
चीन के लॉंग मार्च 5बी के इतिहास का इतिहास रहा है। पिछली बार जब इस परियोजना को लॉंच किया गया था उस समय भी यह असफल रहा और आकाश के धातु आकर गिरी थीं। जिससे आइवरी कोस्ट की इमारतों को क्षति पहुंची थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here