भारतीय कंपनियों में चीन की घुसपैठ! जानिये, कितनी कंपनियों के डायरेक्टर हैं चीनी नागरिक

चीन की घुसपैठ नियंत्रण रेखा तक ही सीमित नहीं है, बल्कि भारत में कई तरह से उसकी घुसपैठ जारी है।

भारतीय जवानों ने अरुणाचल प्रदेश में चीनी सैनिकों की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। लेकिन चीन की घुसपैठ नियंत्रण रेखा तक ही सीमित नहीं है। देश में 3,500 से ज्यादा कंपनियों के डायरेक्टर चीनी से हैं, जबकि भारत में 174 चीनी कंपनियां रजिस्टर्ड हैं। सीमा पर तनाव बढ़ने के बावजूद चीन के साथ द्विपक्षीय व्यापार में 43 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

कॉरपोरेट मामलों के मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिन कंपनियों में चीनी निवेशक और शेयरधारक हैं, उनकी ठीक-ठीक संख्या बता पाना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि इस तरह के आंकड़ों की अलग से गणना नहीं की जाती है।

ये सामान चीन को निर्यात किए जाते हैंः
लौह अयस्क, पेट्रोलियम उत्पाद, जैविक रसायन, परिष्कृत तांबा, कपास, मछली, काली मिर्च, कॉफी, चाय, मसाले, प्लास्टिक, कागज, चीनी, वनस्पति घी आदि।

ये सामान चीन से आयात किए जाते हैंः
स्वचालित डेटा प्रोसेसिंग मशीन, दूरसंचार उपकरण, इलेक्ट्रॉनिक सर्किट, सेमीकंडक्टर उपकरण, एंटीबायोटिक उर्वरक, टीवी, कैमरा, ऑटो पार्ट्स, लाइटिंग, इयरफ़ोन, हैंडसेट आदि।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here