भारतीयों के डेटा चोरों पर सीबीआई ने…

फेसबुक उपयोगकर्ताओं की जानकारी चोरी होने की बात 2018 में सामने आई थी। इस पर फेसबुक की ओर से पक्ष रखा गया था कि जिन कंपनियों ने उपयोगर्ताओं की जानकारी ली है उनके पास ऐसा करने के लिए कोई सहमति नहीं थी।

केंद्रीय जांच अन्वेषण ब्यूरो ने भारतीयों के डेटा चोरों पर अब अपने तेवर कड़े कर लिये है। केंद्रीय एजेंसी ने फेसबुक से डेटा चुराने के आरोप में दो कंपनियों पर आपराधिक मामला दर्ज कराया है। ये दोनों कंपनियां फेसबुक से भारतीयों की निजी जानकारी अवैध रूप से इकट्ठा कर रही थीं।

2018 में केंद्रीय जांच अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने एक प्राथमिक जांच शुरू की थी। जिसमें आरोप है कि भारत के फेसबुक उपयोगकर्ताओं की निजी जानकारियों को अवैध रूप से कैंब्रिज एनालिटिका और ग्लोबल साइन्स रीसर्च नामक कंपनियां चोरी कर रही थीं। इसकी जानकारी फेसबुक प्रशासन को अप्रैल में लगी थी कि वैश्विक रूप से उपयोगकर्ताओं की जानकारी चोरी की गई हैं।

ये भी पढ़ें  – पुलिस की नाक के नीचे ड्रग्स की फैक्ट्री.. ऐसे हुआ बेनकाब!

भारत के लगभग 5.62 लाख फेसबुक उपयोगकर्ताओं की जानकारी चोरी की गई थी। फेसबुक ने इस पर कहा था कि ब्रिटेन की कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका के पास ऐसे किसी डेटा उपयोग करने की सहमति नहीं दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here