ICICI बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर गिरफ्तार, जानें सीबीआई ने क्यों की कार्रवाई

चंदा कोचर पर आरोप है कि उन्होंने आईसीआईसीआई बैंक सीईओ के पद पर रहते हुए वीडियोकॉन ग्रुप को 3 हजार 250 करोड़ रुपए का कर्ज दिया था। ये लोन बाद में नॉन परफॉर्मिंग एसेट में बदल गए थे।

आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। सीबीआई ने कथित कर्ज धोखाधड़ी मामले में यह कार्रवाई की है। इससे दो साल पहले ईडी ने चंदा कोचर की 78 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की थी। शुक्रवार को चंदा कोचर और उनके पति को सीबीआई के मुख्यालय में बुलाया गया था। जहां पूछताछ के बाद कोचर दंपति को गिरफ्तार कर लिया गया। सीबीआई ने आरोप लगाया है कि वह जांच में न तो सहयोग कर रहे थे और न ही सवालों के जवाब सही से दे रहे थे। कोचर दंपति को आज यानी शनिवार को सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।

यह है आरोप
चंदा कोचर पर आरोप है कि उन्होंने अपने पद का गलत इस्तेमाल किया। आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3 हजार 250 करोड़ रुपए का कर्ज दिया था। ये लोन बाद में नॉन परफॉर्मिंग एसेट में बदल गए थे। उस समय चंदा कोचर सीईओ पद पर थीं। लोन मिलने के बाद वीडियोकॉन ग्रुप के पूर्व चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने कोचर की कंपनी नूपॉवर रिन्यूएबल्स में करोड़ों रुपए का निवेश किया था। इस मामले की जांच CBI, ED, SFIO और आयकर विभाग कर रहे हैं। इस मामले के चलते चंदा कोचर को बैंक के सीईओ का पद छोड़ना पड़ा था। सीबीआई ने 22 जनवरी, 2019 को चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन के वेणुगोपाल धूत के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here