…. तब सोनू की हो सकती है गिरफ्तारी!

बीएमसी ने मुंबई के जुहू पलिस स्टेशन में लिखित निवेदन किया है कि वो आवासीय इमारत को होटल में बदलने के मामले में सोनू सूद के खिलाफ मामला  दर्ज करे। बीएमसी ने महाराष्ट्र रिजन एंड टाउन प्लानिंग एक्ट( एमआरटीपी) के तहत मामला दर्ज करने का आग्रह किया है।

अभिनेत्र कंगना रनौत के बाद मुंबई महानगरपालिका के निशाने पर चर्चित अभिनेता सोनू सूद आ गए हैं। कोरोना काल में लोगों की मदद करने के कारण उनके मसीहा बन गए सोनू को लेकर बीएमसी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।
मुंबई के जुहू पुलिस स्टेशन में बीएमसी ने उनके खिलाफ यह शिकायत दर्ज कराई है। बीएमसी का आरोप है कि सोनू सूद ने बिना अनुमति के 6 मंजिल आवासीय इमारत को होटल में तब्दील कर दिया।

एमआरटीपी के तहत मामला दर्ज करने का आग्रह
बीएमसी ने मुंबई के जुहू पलिस स्टेशन में लिखित निवेदन किया है कि वो आवासीय इमारत को होटल में बदलने के मामले में सोनू सूद के खिलाफ मामला  दर्ज करे। बीएमसी ने महाराष्ट्र रिजन एंड टाउन प्लानिंग एक्ट( एमआरटीपी) के तहत मामला दर्ज करने का आग्रह किया है।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्र : ‘सुबोध’ कार्यमुक्त, ‘हेमंत’ अ.महासंचालक!

बीएमसी ने पहले भी भेजा था नोटिस
इस  कथित अवैध निर्माण को लेकर बीएमसी ने सोनू सूद को पहले भी नोटिस भेजा था। इसके खिलाफ सोनू सिविल कोर्ट में अपील की थी। लेकिन उन्हें वहां से राहत नहीं मिली थी। इस बीच सोनू सूद ने बीएमसी के आरोपों को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा है कि जो भी बदलाव किए गए हैं , उसके लिए बीएमसी की मंजूरी ली गई है। ये मंजूरी महाराष्ट्र कोस्टल जोन मैनेजमेंट अथॉरिटी से ली जानी थी, लेकिन कोविड-19 के कारण ये मंजूरी नहीं मंजूरी मिल सकी।

कोरोना वॉरियर्स के लिए किया गया बदलावः सोनू सूद
सोनू सूद ने कहा,’ हमारी तरफ से कोई अनिमितता नहीं की गई है। मैं कानून पसंद इंसान हूं और सिस्टम में विश्वास रखता हूं। इसे कोविड-19 के काल में कोरोना वॉरियर्स के लिए घर बनाया गया था। अगर इसे अनुमति नहीं मिलेगी तो इसे मैं फिर से आवासीय बना दूंगा। मैं बीएमसी के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील करूंगा।’

पुलिस कर रही है जांच
मिली जानकारी के अनुसार पुलिस मामले की जांच कर रही है। भविष्य में सोनू सूद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा सकती है। बता दें कि एमआरटीपी के तहत दो तरह की कार्रवाई की जाती है। दंडात्मक कार्रवाई में जहां दंंड वूसलने का प्रावधान है, वहीं दूसरी तरह की कार्रवाई में गिरफ्तारी और जेल तक की सजा हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here