उमेश कोल्हे हत्याकांड को दबाने के लिए उद्धव ठाकरे ने किया था पुलिस को फोन? होगी जांच

विधायक रवि राणा ने कहा कि अमरावती की सांसद नवनीत राणा और मैंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। उन्हें बताया गया

विधायक रवि राणा ने 23 दिसंबर को विधानसभा में गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि बहुचर्चित उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच को दबाने के लिए उद्धव ठाकरे ने पुलिस को फोन किया था। राणा ने इस मामले में उद्धव ठाकरे की एसआईटी जांच कराने की मांग की।

अब राज्य के खुफिया आयुक्त से 15 दिनों के भीतर पूरे मामले की विस्तृत रिपोर्ट मांगी जाएगी। उस रिपोर्ट को गृह मंत्री और मुख्यमंत्री को सौंपा जाएगा। मंत्री शंभूराज देसाई ने आश्वासन दिया कि रिपोर्ट के बाद उचित निर्णय लिया जाएगा।

उमेश कोल्हे हिंदूत्वादी थे। भाजपा नेता नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखने के बाद उन्हें धमकियां मिलने लगीं। लेकिन अमरावती की पुलिस अधीक्षक आरती सिंह ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया। रवि राणा ने यह भी आरोप लगाया कि उमेश कोल्हे की हत्या के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के दबाव में कांग्रेस के एक मंत्री के इशारे पर जांच को चोरी के मामले में बदल दिया गया।

आरोपों के घेरे में अमरावती पुलिस
उमेश कोल्हे को जब धमकियां मिल रही थीं, तब भी अमरावती के पुलिस अधीक्षक आरती सिंह ने एक महीने तक ध्यान नहीं दिया।  कहा जा रहा है कि उन्हें तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का फोन आया था। उद्धव ठाकरे ने यह कहकर इस जांच की दिशा बदल दी कि यह पूरी जांच चोरी की दिशा में करो और इस मामले को दबा दो।

अमित शाह से मिलकर की थी मामले की जांच की मांग
विधायक रवि राणा ने कहा कि अमरावती की सांसद नवनीत राणा और मैंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। उन्हें बताया कि राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे मामले को दबाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने एनआईए जांच शुरू की, तब पता चला कि उमेश कोल्हे की हत्या इसलिए की गई क्योंकि उन्होंने नूपुर शर्मा की पोस्ट को सपोर्ट किया था। इस हत्याकांड को दबाने का काम उद्धव ठाकरे ने किया। इसलिए मैं मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री से मांग करता हूं कि एसआईटी के माध्यम से इसकी जांच की जाए। पुलिस अधीक्षक से भी इसकी जांच कराई जाए। मैं आदित्य ठाकरे से कहना चाहता हूं कि अगर आप कांग्रेस के इशारे पर हिंदुत्वादी लोगों पर अत्याचार कर रहे हैं तो यह सरकार हिंदू विरोधी है। मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री इसकी जांच कराएं। रवि राणा ने विधानसभा में मांग की कि उद्धव ठाकरे द्वारा किए गए फोन कॉल्स की जांच होनी चाहिए।

मंत्री ने दिया उत्तर देते हुए कही ये बात
राणा के सवाल का जवाब देते हुए मंत्री शंभुराजे देसाई ने कहा, ‘यह एक ऐसा सवाल है, जो पूरक सवाल से बाहर है।’ मैंने काफी जानकारी ली है। हालांकि, सदन में सदस्य जो बोलते हैं, उसे सच मानना ​​चाहिए और उस पर अमल करना चाहिए। अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या के मामले में, जिसका जिक्र राणा ने किया था, उससे विस्तृत जानकारी ली जाएगी। उन्हें वहां के पुलिस कमिश्नर के काम करने के तरीके पर आपत्ति है। राज्य के खुफिया आयुक्त से 15 दिनों के भीतर पूरे मामले की विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है। इसे गृह मंत्री और मुख्यमंत्री को सौंपा जाएगा। रिपोर्ट आने के बाद उचित निर्णय लिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here