वो हो गई लव जिहाद की शिकार… प्यार की आस में मिली ऐसी सजा

मनप्रीत कौर गारमेंट की दुकान में काम करती थी। उसके पति का भी व्यवसाय था। इसके बाद भी वह लव जिहाद की शिकार हो गई।

बिजनौर पुलिस ने एनएच-47 पर महिला का शव बरामद किया। शव किसी भारी वाहन से कुचला गया था। पुलिस ने प्रकरण में दुर्घटना मृत्यु का मामला दर्ज किया। लेकिन जब पुलिस ने महिला की पहचान की और उसके परिवार तक पहुंची तो दुर्घटना का मामला लव जिहाद का निकल गया।

अफजलगढ़ के राष्ट्रीय राजमार्ग पर मनप्रीत की प्रीत का क्रूरतम अंत हुआ। उसके शव की पहचान करने के बाद बिजनौर पुलिस उत्तराखण्ड के काशीपुर पहुंची। वहां से उसके पति को साथ लिया। पहचान में पति ने यह स्वीकार किया कि शव उसकी पत्नी मनप्रीत कौर का है।

ये भी पढ़ें – घाटी में फिर घुसपैठ की फिराक में पाकिस्तान! जानें, 24 घंटे में की गईं कितनी कोशिशें नाकाम

ऐसे लगी प्रीत
मनप्रीत कौर की आयु 28 वर्ष थी। उसका विवाह हो चुका था, इसके बाद भी उसका एक ट्रक चालक नफीस अहमद से इश्क हो गया। नफीस उत्तर प्रदेश के बिजनौर का रहनेवाला है। मनप्रीत लव जिहाद को पहचान न पाई और अपने पति और बेटी को छोड़कर नफीस के साथ भाग गई। नफीस ने भी मनप्रीत से विवाह नहीं किया, जिसको लेकर दोनों में झगड़ा होता था। इसी झगड़े में नफीस ने मनप्रीत को घुमाने के बहाने ट्रक में बैठा लिया।

एकांत राह में कर दिया हमला
नफीस की ट्रक जब सूनसान इलाके में पहुंची तो उसने ट्रक में रखी लोहे की छड़ से मनप्रीत की पिटाई शुरू कर दी। सिर में लोहे की छड़ से मार लगने पर मनप्रीत बेहोश हो गई। इसके बाद नफीस ने उसे सड़क पर लिटा दिया और उसके ऊपर से अपना ट्रक चलाकर फरार हो गया।

ऐसे खुली पोल
मनप्रीत सिख समाज से थी, उसके पति ने पुलिस को नफीस और मनप्रीत के बारे में जानकारी दी थी। जिसके बाद पुलिस ने बिजनौर से नफीस को गिरफ्तार किया। पूछताछ में नफीस ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। उसके पास से मनप्रीत का आधार कार्ड, हत्या में बरामद लोहे की छड़ और ट्रक बरामद किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here