महाकाल मंदिर थाली वाले विज्ञापन पर विवादः आखिर जोमैटो ने घुटने टेके

ऑनलाइन फूड डिलीवरी फर्म जोमैटो के विज्ञापन में अभिनेता ऋतिक रोशन को यह कहते हुए दिखाया गया था कि थाली खाने का मन था, महाकाल से मंगा लिया।

ऑनलाइन फूड डिलीवरी फर्म जोमैटो ने विवाद के बाद बॉलीवुड अभिनेता ऋतिक रोशन वाले विज्ञापन को वापस ले लिया है। इससे पहले कंपनी ने इस विज्ञापन का देशव्यापी विरोध के बाद देर रात माफी भी मांगी थी। अब जोमैटो ने साफ किया है कि विज्ञापन में ‘महाकाल’ का संदर्भ रेस्तरां के लिए था, मंदिर के लिए नहीं।

दरअसल मध्य प्रदेश के उज्जैन में भगवान शिव का विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर स्थित है। इसके पुजारियों ने ऑनलाइन फूड डिलीवरी फर्म जोमैटो के विज्ञापन में अभिनेता ऋतिक रोशन को यह कहते हुए दिखाया गया है कि ‘थाली खाने का मन था, महाकाल से मंगा लिया।” इस विज्ञापन पर मंदिर के पुजारियों और कारोबारी संगठन कैट ने आपत्ति जताई थी। इसको लेकर देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन भी हुआ।

ये भी पढ़ें – राउत को राहत नहीं, इस तिथि तक बढ़ाई गई न्यायिक हिरासत

हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंची
इस विज्ञापन को लेकर दावा किया गया था कि इससे हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंची है। इसको लेकर देशभर में तीखी प्रतिक्रिया आई थी, जिसमें इस विज्ञापन को वापस लेने की मांग की गई थी। यह किसी विज्ञापन को लेकर विवाद का पहला मामला नहीं है। दरअसल विज्ञापन और विवादों का पुराना रिश्ता रहा है। इससे पहले भी कई बार कंपनियों के ऐसे विज्ञापन आए है, जिन्होंने बहुत विवाद पैदा किया है। इनमें फैबइंडिया, डाबर फेम, मान्यवर, सब्यसाची का विज्ञापन शामिल हैं।

कैट ने जताई थी आपत्ति
कारोबारी संगठन कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि महाकाल मंदिर की प्रसाद की थाली सदियों से मुफ्त में परोसी जाती हैं, जो केवल मंदिर परिसर के अन्न क्षेत्र में ही है। मंदिर के बाहर किसी को प्रसाद की थाली देने का तो सवाल ही नहीं उठता। कैट ने राज्य सरकार से तत्काल कार्रवाई की मांग की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here