बच्चों के टीकाकरण को लेकर डब्ल्यूएचओ ने कही ये बात!

डब्ल्यूएचओ ने अमीर देशों से बच्चों का टीकाकरण फिलहाल रोकने की अपील की है। उसने कहा है कि अमीर देशों को गरीब देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराने की दिशा में प्रयत्न करना चाहिए।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपील की है कि अभी बच्चों को टीका न लगाएं। संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम ने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर पहले से ज्यादा खतरनाक है और आगे यह और भी ज्यादा जानलेवा साबित हो सकती है।

अदनोम ने अमीर देशों से अपील करते हुए कहा कि अभी बच्चों को टीका लगाने से ज्यादा जरुरी है, गरीब देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराना।

इन देशों ने दी है मंजूरी
बता दें कि अमेरिका और कनाडा ने पिछले दिनों 12 से 15 साल के बच्चों के टीकाकरण की मंजूरी दी है। इसके साथ ही भारत में भी इसके लिए प्रयास किया जा रहा है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया( डीसीजीआई) ने 13 मई को भारत बायोटेक को 2 से 18 साल की उम्र के बच्चों को वैक्सीन देने के लिए कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के ट्रायल की मंजूरी दे दी है।

ये भी पढ़ेंः खुशखबर! अब देश में बच्चों को भी जल्द मिलेगी वैक्सीन

कोवैक्स प्रोग्राम के लिए डोनेट करें वैक्सीन
अदनोम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मैं समझ सकता हूं कि क्यों कुछ देश किशोरों का टीकाकरण कराना चाहते हैं, लेकिन मैं उनसे अपील करता हूं कि वे इस पर दोबारा विचार करें और इसके बदले वे टीका कोवैक्स प्रोग्राम के लिए डोनेट करें।

मिल सकते हैं नए स्ट्रेन
डब्ल्यूएचओ ने कहा कि विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाला समय में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन मिल सकते हैं। हालांकि हमें इसके बारे में अनुभव से पता है कि क्या करना है। कोविड-19 की डब्ल्यूएचओ की टेक्निकल लीड मारिया वान केरकोव ने कहा कि मैं डर को उत्पादकता और मजबूती की ओर मोड़ना चाहती है। इससे सकारात्मक ऊर्जा मिलेगी और लोगों में डर कम होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here