विहिप का हित चिन्तक अभियान शुरू! जानिये, उत्तर प्रदेश में कितने लाख सदस्य बनाने का है लक्ष्य

विहिप के कार्यकर्ता टोलियों में प्रत्येक गांवों तक जाकर हितचिंतक बनायेंगे। इसके अंतर्गत लोगों को विहिप के कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी भी दी जाएगी।

विश्व हिन्दू परिषद ने एक पखवाड़े तक चलने वाले राष्ट्रव्यापी हित चिन्तक अभियान 6 अक्टूबर को शुरू कर दिया है। यह अभियान 20 नवम्बर तक चलेगा। इस दौरान विहिप के कार्यकर्ता घर- घर जाकर सम्पर्क कर हिन्दू समाज व राष्ट्र हित के कार्यों से जोड़ने के लिए हित चिंतक बनायेंगे। राजधानी लखनऊ में विश्व हिन्दू परिषद अवध प्रान्त के प्रान्तीय अध्यक्ष कन्हैया लाल नगीना ने यहियागंज में हित चिंतक(सदस्यता) अभियान की शुरूआत की।

कन्हैया लाल नगीना ने लखनऊ मेटल मर्चेन्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष हरीश चन्द्र अग्रवाल, राकेश अग्रवाल, अंकित अग्रवाल, असीम अग्रवाल, कृष्ण कसेरा व कई अन्य लोगों को हित चिन्तक बनाया।

विश्व हिन्दू परिषद के क्षेत्रीय संगठन मंत्री गजेन्द्र सिंह ने बताया कि उत्तर प्रदेश में 25 लाख हित चिंतक बनाये जायेंगे। पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के अवध प्रान्त में तीन लाख, कानपुर प्रान्त में छह लाख, काशी प्रान्त में पांच लाख और गोरक्ष प्रान्त में तीन लाख हित चिंतक बनाये जायेंगे। इसके अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के मेरठ प्रान्त में पांच लाख और ब्रज प्रान्त में तीन लाख हित चिंतक बनाये जायेंगे।

हितचिंतक अभियान के लिए टोलियों का निर्माण
विहिप के क्षेत्र संगठन मंत्री ने बताया कि हितचिंतक अभियान के लिए टोलियों का निर्माण किया गया है। विहिप के कार्यकर्ता टोलियों में प्रत्येक गांवों तक जाकर हितचिंतक बनायेंगे। इसके अंतर्गत लोगों को विहिप के कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी भी दी जाएगी।

ऐसे पेशे के लोगों से किया जाएगा संपर्क
गजेन्द्र सिंह ने बताया कि अभियान में विशेष वर्ग के लोगों को जोड़ने हेतु विशेष संपर्क भी किया जाएगा। इसके अन्तर्गत डॉक्टरों, इंजीनियरों, चार्डर्ड अकाउंटेंटों, वकील, पूर्व जजों, गायकों, अभिनेताओं, खिलाड़ियों इत्यादि यानी सभी तरह के सेलेब्रिटी को भी जोड़ेंगे।

विहिप के सेवा कार्यों से कराया जायेगा परिचित
हित चिंतक अभियान के दौरान विहिप द्वारा चलाये जा रहे सेवा कार्यों के बारे में भी समाज को जानकारी दी जायेगी। नई पीढ़ी में सनातन संस्कारों का संचार करना, गौवंशों की रक्षा, सामाजिक समरसता, नारी सशक्तीकरण, कुटुंब प्रबोधन, पर्यावरण संरक्षण व मठ-मंदिरों की सुव्यवस्था के साथ ही हिन्दू समाज को संगठित करते हुए उसकी सुरक्षा के संकल्प का भाव जगाना भी अभियान का उद्देश्य है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here