उत्तराखण्ड: प्रलय ने ले ली 34 जिंदगी… राहत बचाव कार्य में सेना और एनडीआरएफ लगी

प्रदेश में बारिश के कहर ने भयंकर रूप ले लिया है। इस विभीषिका से अब मृतकों का आंकड़ा सामने आने लगा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य में 34 लोगों को इस जल प्रलय में अपनी जान गंवानी पड़ी है। राहत और बचाव कार्य में सेना, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के दल लगे हुए हैं। एनडीआरएफ की 15 टीमें लगी हुई हैं।

राज्य में स्थानीय लोगों के साथ ही तीर्थ यात्री भी जगह-जगह फंसे हुए हैं। इस आपदा में 34 लोगों की जान गई है, जिनके परिजनों को सरकार 4 लाख रुपए की सहायता राशि देगी, इसके आलावा 5 लोग लापता हैं। इस प्रलय में जिनका घर बह गया है उन्हें 1.9 लाख रुपए की सहायता राशि दी जाएगी।

ये भी पढ़ें – मदरसे बने आतंकी सेंटर… हिंदुओं की हत्याओं में प्रमुख भूमिका

राज्य में एनडीआरएफ की 15 टीमें तैनात

  • ऊधमसिंह नगर 6 टीम
    • उत्तरकाशी 2 टीम
    • चमोली 2 टीम
    • देहरादून 1 टीम
    • हरिद्वार 1 टीम
    • पिथौरागढ़ 1 टीम
    • नैनीताल 2 टीम (1 फुल टीम, 1 सब टीम)
    • अल्मोड़ा 1 सब टीम

नैनीताल में बिगड़ी परिस्थिति
नैनीताल झील पूरी तरह से भरने के कारण झील का पानी शहर में प्रवेश कर गया है। नैना देवी मंदिर में भी पानी भर गया है। इसके कारण एक छात्रावास क्षतिग्रस्त हो गया है। रामनगर रानीखेत मार्ग पर लेमन ट्री रिसॉर्ट में 200 पर्यटक फंसे थे, जिन्हें निकाल लिया गया है, यहां रिसॉर्ट में कोसी नदी का पानी घुस गया था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here