कौन है यूपी के कोविड कमांड सेंटर की वह ‘शाप कन्या’?

उत्तर प्रदेश में कोविड मरीजों को भटकना न पड़े इसके लिए कोविड कमांड सेंटर का गठन किया गया है। इसके माध्यम से संक्रमितों को उचित जानकारी, उनके स्वास्थ्य की सलाह दी जानी है।

योगी आदित्यनाथ के राज में कोरोना से लड़ने के लिए प्रशासन चुस्त है। जहां-जहां उनकी दृष्टि पड़ती है वहां अच्छे-अच्छों की बोलती बंद हो जाती है। मुख्यमंत्री महोदय वैसे इस समय कोरोना संक्रमित हो गए हैं और आइसोलेशन में कॉन्फ्रेन्सिग के माध्यम से प्रशासन को दिशा निर्देश दे रहे हैं। इस बीच कोरोना संक्रमित प्रदेश के एक सरकारी वकील को कोविड कमांड सेंटर से शाप मिलने की घटना सामने आई है। जिसके अब शाप कन्या की खोजबीन हो रही है।

कोविड कमांड सेंटर की शाप कन्या से परेशान हुए वकील संतोष सिंह साहब और उनकी पत्नी ने कुछ दिनों पहले कोविड टेस्ट कराया था। उन दोनों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव निकली। तो दोनों घर पर ही विलगीकरण में थे। ऐसे संक्रमितों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड कमांड सेंटर का गठन किया है। इस कोविड कमांड सेंटर से घर पर विलगीकरण में रहनेवालों को परामर्श, एंबुलेंस सुविधा, डांक्टरी जांच और अस्पतालों में बिस्तर की व्यवस्था में सहायता दी जाती है। लेकिन इन सरकारी वकील महोदय को मिली कोविड कमांड से परामर्श के बदले मिला भयानक शाप… आप भी सुनिये

इस प्रकरण से दुखी सरकारी वकील संतोष सिंह ने शाप कन्या की शिकायत योगी आदित्यनाथ और जिलाधिकारी से की है। वकील संतोष सिंह ने 10 अप्रैल 2021 को कोरोना जांच कराई थी। 12 अप्रैल को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। 15 अप्रैल को संतोष सिंह जी को सबेरे 8.14 मिनट पर फोन आया। कन्या ने उनसे आइसोलेशन ऐप डाउनलोड करने के बारे में पूछा। दोनों के बीच 54 मिनट बातचीत हुई और वकील साहब को जो उस कन्या ने अंत में कहा उससे वे हतप्रभ हैं। इस प्रकरण की शिकायत लखनऊ महानगर के पूर्व महापौर मनोहर सिंह के बेटे ने भी मुख्यमंत्री से की है। इस ऑडियो की प्रशासन की ओर से जांच की जानी है जिसके बाद इसकी सत्यता की पुष्टि हो पाएगी। इसकी सत्यता की पुष्टि हिंदुस्थान पोस्ट नहीं करता।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here