उप्रः कंपकंपाती ठंड में बढ़ी गरीबों की परेशानी, योगी सरकार ने प्रशासन को दिया ये आदोश

शीतलहरी में राज्य सरकार की ओर से सबसे अधिक हरदोई में 16,379 कंबलों का वितरण किया गया।

कड़ाके की ठंड में गरीबों, निराश्रितों व जरूरतमंदों को परेशानी न उठानी पड़े, इसके लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पूरी तरह से मुस्तैद है। कंबल वितरण, अलाव और रैनबसेरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पूरी नजर है। 2 जनवरी को उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि ठंड के मौसम में प्रदेश में कोई भी व्यक्ति सड़क पर सोता नजर न आए।

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि सूबे के सभी 75 जिलों में वितरण के लिए योगी सरकार ने शीतलहरी में कुल 4,96,883 कंबल खरीदे। इनमें से दो लाख 86 हजार 740 लोगों में कंबल का वितरण भी हो गया। शीतलहरी से बचाव के लिए 1220 रैन बसेरे स्थापित किए गए। इसकी क्षमता 29228 है। वहीं सूबे में अलाव जलाने के लिए 14043 स्थान चिह्नित किए गए। यूपी के जनपदों में प्रतिदिन 12594 सार्वजनिक स्थानों पर अलाव जलाया जा रहा है। विगत दिनों मुख्यमंत्री योगी गोरखपुर में रैन बसेरों की जमीनी हकीकत देखने खुद ही पहुंच गए थे।

ठंड में कोई भी सड़क पर सोता नजर न आए
शीतलहर के बीच निराश्रित जनों की सहायता के लिए प्रदेश में रैन बसेरों की स्थापना की गई है। प्रवक्ता ने बताया कि अब तक 1220 से अधिक रैन बसेरे स्थापित किये गए हैं। सीएम का निर्देश है कि जिलाधिकारी स्वयं रैन बसेरों की व्यवस्था का औचक निरीक्षण करें। जहां आवश्यकता हो, वहां सुधार कराया जाए। ठंड में कोई भी व्यक्ति सड़क पर सोता न नजर आए। हर जरूरतमंद को रैन बसेरे की सुविधा उपलब्ध हो। कंबल वितरण का क्रम निरंतर जारी रखा जाए। सरकार का निर्देश है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कंबल आदि राहत सामग्री का वितरण स्थानीय सांसद, विधायक, निकाय चेयरमैन जैसे जनप्रतिनिधियों से ही कराया जाए। इस अवसर पर प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित रहें। सार्वजनिक स्थलों पर अलाव के समुचित प्रबंध हों।

हरदोई में 16 हजार, प्रयागराज में 9800 से अधिक कंबलों का वितरण
प्रवक्ता के अनुसार शीतलहरी में राज्य सरकार की ओर से सबसे अधिक हरदोई में 16,379 कंबलों का वितरण किया गया। प्रयागराज में यह आंकड़ा 9,894 रहा। पीएम मोदी की काशी में 10,988 कंबलों की खरीद हो गई। 7065 कंबल वितरित किए जा चुके। रामनगरी में 4320 जरूरतमंदों को योगी सरकार की तरफ से कंबल दिए गए।

अलीगढ़-बरेली व चित्रकूट में 100 फीसदी कंबलों का वितरण
उन्होंने बताया कि अलीगढ़ में सरकार की तरफ से खरीदे गए 8,500 कंबलों का वितरण गरीबों तक किया जा चुका है। बरेली में भी 7,407 कंबल खरीदे, जिनका वितरण भी सरकार की ओर से जनप्रतिनिधियों ने किया। चित्रकूट में 4000 कंबल खरीदकर उनका वितरण भी सरकार ने कराया।

लखनऊ के रैन बसेरों में 1962 लोगों के ठहरने की कराई गई व्यवस्था
योगी सरकार का निर्देश है कि ठंड के दिनों में कोई भी बाहर न सोए। इसके लिए सभी व्यवस्थाओं से रैन बसेरों को सुदृढ़ किया गया है। सरकारी प्रवक्ता के अनुसार लखनऊ में 1962 लोग इन रैन बसेरे में ठहर रहे हैं। प्रयागराज में बनाए गए रैन बसेरे में 1228 लोगों की व्यवस्था है। कानपुर नगर में 1029 और अलीगढ़ में 954 निराश्रितों के ठहरने की व्यवस्था रैन बसेरे में की गई है। वाराणसी में 916, गाजियाबाद में 893, कासगंज में 840, गौतमबुद्ध नगर में 748 लोगों की संख्या के अनुरूप रैन बसेरे स्थापित किए गए।

12594 जगहों पर प्रतिदिन जल रहे अलाव
सूबे के सभी 75 जिलों में अलाव जलाने की व्यवस्था की जा रही है। प्रवक्ता ने बताया कि अलाव जलाने के लिए प्रदेश में कुल 14043 स्थान चिह्नित किए गए हैं, इनमें से 12594 जगहों पर प्रतिदिन अलाव जल रहे है। लखनऊ में 724 स्थानों पर अलाव जलाकर लोगों को राहत दिलाया जा रहा है। अलीगढ़ में 505, प्रयागराज में 429, उन्नाव में 411, बिजनौर में 402, हरदोई में 370, मेरठ में 306, सिद्धार्थनगर में 294, मऊ में 283, सहारनपुर में 262, मुरादाबाद में 256, शाहजहांपुर में 255, गाजीपुर में 252, जौनपुर में 246, सीतापुर में 233 स्थानों पर प्रतिदिन अलाव जल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here