अमित शाह ने बीएसएफ के ‘प्रहरी’ मोबाइल एप और ‘मैनुअल’ का किया लोकार्पण, ये होगा लाभ

अमित शाह ने कहा कि बीएसएफ के जवान दिन-रात की मुस्तैदी के साथ बॉर्डर को सुरक्षित करने में सफल हुए हैं और मुश्किल स्थानों पर 140 किमी फेंसिंग और लगभग 400 किलोमीटर सडकों का निर्माण पूरा हो गया है।

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 29 दिसंबर को यहां सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के ‘प्रहरी’ मोबाइल एप और मैनुअल का लोकार्पण किया।

इस मौके पर शाह ने कहा कि बीएसएफ का यह एप सक्रिय शासन का एक बड़ा उदाहरण है। अब जवान व्यक्तिगत एवं सेवा संबंधी जानकारी, आवास, आयुष्यमान-सीएपीएफ व अवकाश से संबंधित जानकारी अपने मोबाइल पर प्राप्त कर सकते हैं। जीपीएफ, बीआईओ डाटा हो या “केंद्रीकृत लोक शिकायत निवारण और मॉनीटरिंग प्रणाली” (सीपी-गार्मस) पर समस्या निवारण या कई कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी हो, अब जवान एप के जरिये यह सब जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और यह एप उन्हें गृह मंत्रालय के पोर्टल से भी जोड़ेगा।

खास बातेंः
-इसके साथ ही 13 मैनुअल में प्रतीक्षित रिविजन तथा अपडेट से ऑपरेशन, एडमिनिस्ट्रेशन एवं ट्रेनिंग की कार्यों की बेहतर समझ बढ़ेगी और कार्यों में तेजी आएगी। शाह ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि इससे बीएसएफ के सभी स्तर के जवानों और अधिकारियों को काम करने में सहूलियत होगी। उन्होंने कहा कि ये नए इनीशिएटिव बीएसएफ के काम में सरलता भी लाएंगे और सहूलियत भी करेंगे।

-गृह मंत्री ने कहा कि बीएसएफ देश की सबसे कठिन सीमा की निगरानी करती है। अटल जी ने वन बॉर्डर वन फोर्स का जो नियम बनाया, उसके बाद पाकिस्तान और बांग्लादेश से सटी हमारी सीमाओं की जिम्मेदारी बीएसएफ के जिम्मे आई है और बीएसएफ के वीर जवान बड़ी ही सजगता, सुदृढ़ता और मुस्तैदी के साथ-साथ सातत्यपूर्ण प्रयासों के साथ इन सीमाओं की सुरक्षा करते हैं।

-उन्होंने कहा कि देश की सीमाओं की सुरक्षा पिलर या फेंसिंग नहीं बल्कि उस सीमा पर खड़े जवान की वीरता, देशभक्ति व सजगता ही कर सकती है। शाह ने कहा कि देश के गृहमंत्री होने के नाते इस मौके पर वे आज बीएसएफ के सभी जवानों की वीरता, सतर्कता और सजगता की भूरी भूरी प्रशंसा करना चाहते हैं।

-शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में वाइब्रेंट विलेज कार्यक्रम शुरू किया है। उन्होंने सभी बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स से आग्रह किया कि उन्हें वाइब्रेंट विलेज कार्यक्रम के माध्यम से गांव के अंदर टूरिज्म बढ़ाने, गांव को आत्मनिर्भर और संपूर्ण सुविधाओं से युक्त बनाने की दिशा में प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बॉर्डर की सिक्योरिटी तभी हो सकती है जब बॉर्डर के गांव के अंदर आबादी होगी, सीमाओं पर जवानों की तैनाती के साथ-साथ स्थाई सिक्योरिटी गांव में बसे हुए देशभक्त नागरिक ही दे सकते हैं और सभी बॉर्डर गार्डिंग फोर्स को इसे मजबूत करना होगा और जमीन पर भी उतारना होगा।

-केंद्रीय गृह ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल का एक बहुत लंबा इतिहास रहा है और अब तक इसे एक महावीर चक्र, 4 कीर्ति चक्र, 13 वीर चक्र और 13 शौर्य चक्र सहित अनेक वीरता पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। बीएसएफ ने बड़ी ही वीरता से इतने युद्ध लड़े हैं कि हर युद्ध पर एक पुस्तक लिखी जा सकती है। उन्होंने कहा कि पिछले 3 वर्षों में बीएसएफ के माध्यम से 26000 किलो नारकोटिक्स की जब्ती की गई और 2500 आर्म्स और एम्युनिशन पकड़े गए। उन्होंने कहा कि हालांकि सीमा पर एंटी ड्रोन टेक्नोलॉजी अभी प्रयोगात्मक स्टेज पर है लेकिन इसमें काफी हद तक सफलता मिली है।

-उन्होंने कहा कि बीएसएफ ने विगत 6 माह के अंदर ही पश्चिमी सीमा पर 22 ड्रोन गिराने का काम किया है जो एक बहुत बड़ी उपलब्धि है, साथ ही नापाक इरादों के साथ नारकोटिक्स और टेररिज्म फैलाने के लिए हथियार लाने वाले ड्रोन पर भी सफलता प्राप्त हो रही है। शाह ने कहा कि नोएडा में बीएसएफ ड्रोन/यूएवी और साइबर फोरेंसिक लैब” स्थापित किया गया है जिससे पकड़े गए ड्रोन के माध्यम से इसके लिंकेज और बॉर्डर पार के स्थान की बहुत अच्छी तरीके से मैपिंग और पहचान की गई है।

-शाह ने कहा कि बीएसएफ के जवान दिन रात की मुस्तैदी के साथ बॉर्डर को सुरक्षित करने में सफल हुए हैं और मुश्किल स्थानों पर 140 किमी फेंसिंग और लगभग 400 किलोमीटर सडकों का निर्माण पूरा हो गया है। साथ ही 120 से ज्यादा बॉर्डर आउट-पोस्ट्स का निर्माण किया जा चुका है।

-गृह मंत्री ने कहा कि बीएसएफ के जवान -40 डिग्री से लेकर 46 डिग्री टेंपरेचर तक खड़े रहकर जितनी सजगता से बॉर्डर पर देश की सुरक्षा करते हैं उतनी ही सजगता से नरेंद्र मोदी सरकार उनके परिवार की देखभाल करती है। हाउसिंग के लिए एक नया एप बनाया है और इसकी लॉन्चिंग के 2 महीने के अंदर ही 10 प्रतिशत हाउसिंग सेटिस्फेक्शन रेशो बढ़ गया है जो एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। शाह ने कहा कि सरकार ने बॉर्डर इंडिया डेवलपमेंट के लिए भी ढेर सारे काम किए हैं। 9 इंटीग्रेटेड चैकपोस्ट विकसित की है और 14 और बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

ये नेता रहे उपस्थित
इस अवसर पर केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, केन्द्रीय गृह सचिव, बीएसएफ के महानिदेशक, केन्द्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिव, केन्द्रीय गृह मंत्रालय, केन्द्र शासित प्रदेशों और बीएसएफ के अनेक वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here