राष्ट्रपति थे कानपुर देहात में और दंगाइयों ने मचा दिया उत्पात, प्रशासन उठाएगा ऐसा कदम

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, राज्यपाल समेत कई मंत्री कानपुर में है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर से करीब 60 किमी दूर ग्राम परौंख में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल और मुख्यमंत्री का कार्यक्रम हो रहा था। इसी दौरान शहर के बेकनगंज के यतीमखाना इलाके में जुमे की नमाज के बाद बाजार बंद कराने को लेकर दो पक्ष आमने-सामने आ गए। दोनों ओर से पथराव हुआ। स्थिति नियंत्रित करने पहुंची पुलिस पर भी पत्थर फेंके गए। इस दौरान कई लोग घायल हुए हैं, जिनको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कई राउंड फायर किया।

यह भी पढे-ऐसे गूथी जा रही थी महाराष्ट्र के विरुद्ध साजिश, पुणे एटीएस के हाथ एक और सफलता

लाठीचार्ज का भी सहारा लेना पड़ा। पुलिस ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी है। संदेह के आधार पर कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है। उन्हें अलग-अलग थानों में रखा गया है। इस बवाल के बाद कानपुर के अन्य बाजारों में भी दुकानें बंद करवा दी गई हैं। हालांकि इस बवाल में कितने लोग जख्मी हुए हैं, इसकी अधिकृत जानकारी नहीं मिल सकी है।जिलाधिकारी नेहा शर्मा, पुलिस आयुक्त विजय सिंह मीना समेत जिले के आला अधिकारी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए हैं। पुलिस का कहना है कि उपद्रवी तत्वों को चिह्नित कर कठोर कार्रवाई की जा रही है। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने कहा कि अभी स्थिति नियंत्रण में है। पत्थरबाजों पर कार्रवाई की जा रही है। उल्लेखनीय है कि भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा के टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मुहम्मद साहब पर टिप्पणी किए जाने से मुस्लिम समाज नाराज था। इसके विरोध में शुक्रवार को बाजार बंद का आह्वान किया गया था।

दोषियों पर गैंगस्टर ऐक्ट और संपत्ति होगी जमींदोस्त
कानपुर में दो पक्षों को लेकर हुए विवाद को लेकर अपर पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) प्रशांत कुमार का बयान आया है। उन्होंने कहा कि कानपुर में हुए हिंसा की घटना में जो भी दोषी है, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

एडीजी ने कहा कि इस घटना में जिन लोगों ने बवाल किया है उनमें से 18 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। बताया कि इस घटना में जो भी दोषी होंगे, उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जायेगी। सीसीटीवी फुटेज पुलिस के हाथ लगे हैं, जिससे उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। इनकी संपत्ति को कुर्क कर बुल्डोजर चलाया जायेगा। कहा कि, एक प्लाटून पीएसी कानपुर के लिए भेजी गई है। लखनऊ से कई अधिकारी भी यहां से वहां के लिए रवाना हो चुके हैं। उन्होंने लोगों से अपील की है कि शांति व्यवस्था बनाये रखने में पुलिस प्रशासन की मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here