डीजल की बढ़ती कीमत से ऐसे निपटेगा एसटी महामंडल!

एसटी महामंडल अपनी बसों के रखरखाव के साथ ही उसकी मरम्मत और टायर आदि पर करोड़ों रुपए खर्च करता है। इसके साथ ही डीजल की बढ़ती कीमत का बोझ भी से वहन करना पड़ता है।

कोरोना महामारी के कारण महाराष्ट्र में एसटी में यात्री काफी कम हो गए हैं। इस वजह से इस महामंडल के राजस्व पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ा है। यात्रियों की संख्या कम होने के साथ ही डीजल के दाम भी आसमान में पहुंच गए हैं। इन कारणों से एसटी की आर्थिक स्थिति दिन प्रतिदिन खराब होती जा रही है। इसे देखते हुए एसटी महामंडल ने बड़ा निर्णय लिया है। वह एक हजार एसटी बसों को सीएनजी में कन्वर्ट करेगी।

बता दें कि एसटी महामंडल के बेड़े में 17,000 डीजल से चलने वाली बसें हैं। पहले इन पर डीजल पर खर्च कुल लागत का 34 प्रतिशत था लेकिन डीजल के बढ़ते दाम के चलते अब यह 38 से 40 प्रतिशत तक पहुंच गया है। इसे देखते हुए राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब के अनुसार, एसटी महामंडल ने अपने बेड़े में 1,000 वाहनों को सीएनजी में बदलने का फैसला किया है।

एसटी महामंडल को दिए जाएंगे 140 करोड़
एसटी अपनी बसों के रखरखाव के साथ ही उसकी मरम्मत और टायर आदि पर करोड़ों रुपए खर्च करता है। इसके साथ ही डीजल की बढ़ती कीमत का बोझ भी उसे वहन करना पड़ता है। अब उसने डीजल पर अरबों रुपए की लागत को देखते हुए डीजल को वैकल्पिक ईंधन के तौर पर इस्तेमाल करने का फैसला किया है। इन बसों को सीएनजी वाहनों में बदलने के लिए आवश्यक धनराशि के लिए महामंडल ने उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री अजित पवार को एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया था। महामंडल ने इसके लिए कुल 140 करोड़ रुपए की मांग की थी। उपमुख्यमंत्री ने महामंडल की मांग पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए वर्ष 2021-2022 के बजट में यह राशि उपलब्ध कराई है।

ये भी पढ़ेंः एसटी महामंडल में सुसाइड सत्र जारी! अब तक इतने कर्मियों ने मौत को गले लगाया

 मंगाया गए हैं टेंडर
परिवहन मंत्री अनिल परब ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि डीजल से चलने वाली एसटी बसों को सीएनजी  में बदलने के लिए टेंडर मंगाए गए हैं। सीएनजी के साथ-साथ पर्यावरण के अनुकूल ईंधन जैसे इलेक्ट्रिक और एलएनजी से चलने वाली बसों को जल्द ही एसटी बेड़े में शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भविष्य में एसटी महामंडल ईंधन की लागत बचाने के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षित यात्रा को प्राथमिकता देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here