जानिये,टीका लगवाया तो क्या होगा और नहीं लगवाने पर क्या हो सकता है?

कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के कहर के बावजूद वैक्सीन काफी असरकारक है। वैक्सीन लगने से 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भी अस्पताल में भर्ती होने का खतरा 80 प्रतिशत कम हो जाता है।

कोरोना महामारी को रोकने में वैक्सीन बड़ा हथियार साबित हो रही है। इसे लगाने के बाद गंभीर संक्रमण के साथ ही मौत को भी मात देने का वरदान मिल सकता है। यब सच्चाई कई अध्ययनों में सामने आ चुका है। अब अमेरिकी स्वास्थ्य एजेंसी सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन ने भी इस पर मुहर लगा दी है। उसने अपने तीन अध्य्यनों के परिणाम को देखते हुए यह दावा किया है। उसने लोगों से टीकाकरण करवाने पर जोर दिया है।

अमेरिका के ताजा अध्ययन की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि टीका न लगवाने वाले लोगों के लिए कोरोना संक्रमण काफी खतरनाक और यहां तक कि जानलेवा भी हो सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि टीका न लगवाने वालों की इस बीमारी से मौत का खतरा 11 गुना अधिक होता है।

ये भी पढ़ेंः दीपोत्सव पर यूपी बनेगा आत्मनिर्भर! अयोध्या में दशहरा से दीपावली तक रहेगी राम नाम की धूम

कोरोना के डेल्टा वैरिएंट पर भी असरदार
कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के कहर के बावजूद वैक्सीन काफी असरकारक है। वैक्सीन लगने से 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भी अस्पताल में भर्ती होने का खतरा 80 प्रतिशत कम हो जाता है। 18 से 64 वर्ष के उम्र वालों में यह खतरा 95 प्रतिशत तक कम हो जाता है। सीडीसी की निदेशक रोशेल वालेंस्की ने कहा कि तीन अध्ययन में यह साबित हो गया कि वैक्सीन काफी असरदार साबित हो रही है। बता दें कि विश्व में अब तक 5.64 बिलियन से ज्यादा लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here