कोरोना काल में ऐसे मनाया गया होली का महापर्व!

कोरोना काल में पाबंदियों के बीच होली का महापर्व मनाया जा रहा है।

नई दिल्ली के खान मार्केट इलाके में लोगों ने बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक ‘होलिका दहन’ को कोरोना के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए मनाया। इस मौके पर लोगों ने होलिका दहन कर कोरोना के समाप्त होने की कामना की।

नई दिल्ली के झंडेवालान के अराम बाग इलाके में  भी लोगों ने ‘होलिका दहन’ किया। इस अवसर पर आरएसएस नेता राम लाल भी उपस्थित थे। उन्होंंने कहा कि यह पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। इससे देश के लोगों को सबक लेना चाहिए और अच्छे कर्म करने चाहिए।

असम के गुवाहाटी के ब्रह्मपुत्र घाट पर लोगों ने ‘होलिका दहन’ किया और कोरोना काल की समाप्ति की कामना की।

उत्तर प्रदेश के मथुरा स्थित द्वारकाधीश मंदिर में 27 मार्च को होली का त्योहार कुछ अलग ही अंदाज में मनाया गया।

कोरोना काल में होली का रंग फीका
बता दें कि महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए होली के साथ ही धुलीवंदन सार्वजनिक रुप से मनाने पर रोक लगा दी गई है। इस स्थिति में इस महापर्व का रंग फीका हो गया है। लेकिन सरकार की भी मजबूरी है और लोगों की सुरक्षा के लिए भी यह जरुरी है। लोगों को इस बात को अच्छी तरह समझते हुए कोरोना के दिशानर्देशों का सख्ती से पालन करना चाहिए। इसी में सबकी भलाई है।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में लॉकडाउन की तैयारी!

महाराष्ट्र में लॉकडाउन संभव
समझा जा रहा है कि महाराष्ट्र में जिस तरह से कोरोना बेकाबू हो रहा है, उसे देखते हुए अगले कुछ दिनो में लॉकडाउन लागू किया जा सकता है। बता दें कि वर्तमान में महाराष्ट्र में रात 8 बजे सुबह 7 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू किया गया है। इसके साथ ही सार्वजनिक रुप से होली और धुलीवंदन के त्योहार मनाने पर भी रोक लगा दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here