बांदा की बदलेगी तस्वीर, 95 उद्यमियों ने दिया ‘इतने’ हजार करोड़ के निवेश का प्रस्ताव

उप्र इनवेस्टर्स समिट के अन्तर्गत बांदा जनपद के इन्वेस्टर्स समिट एवं उ.प्र. दिवस कार्यक्रम का आयोजन 24 जनवरी को रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज बांदा के परिसर में किया गया। इनवेस्टर्स समिट का शुभारम्भ प्रदेश के जलशक्ति राज्यमंत्री रामकेश निषाद ने फीता काटकर एवं दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर उन्होंने बड़ी संख्या में उपस्थित उद्यमियों से कहा कि वह अधिक से अधिक उद्योग जनपद में लगाने के लिए अपना निवेश करें, जिससे कि बांदा में विकास के साथ रोजगार के अवसर बढ़ सकें।

उन्होंने कहा कि बांदा जनपद पूर्व में बहुत ही पिछड़ा क्षेत्र था लेकिन वर्ष-2017 से केन्द्र व प्रदेश में डबल इंजन की सरकार बनने से प्रदेश में कानून व्यवस्था का राज कायम हुआ है और अब बुन्देलखण्ड क्षेत्र के साथ ही बांदा में भी नये-नये उद्योग लग रहे हैं तथा पूंजी निवेश बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के बन जाने से तथा इसके किनारे औद्योगिक कॉरीडोर बनाया जायेगा, जिससे यहां के लोंगो को और अधिक लाभ होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार मोटे अनाज को बढ़ावा देने एवं प्रोत्साहित करने हेतु अग्रसर हो रही है, जिससे कि यहां के कठिया गेंहू एवं अन्य उत्पादों को लाभ मिलेगा। उन्होंने यह भरोसा दिलाया कि आज जिन उद्यमियों ने एमओयू हस्ताक्षरित किये हैं उन्हें उद्योग स्थापित करने में हर सम्भव सहायता शासन एवं प्रशासन के द्वारा दी जायेगी।

जलशक्ति राज्यमंत्री ने अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ कार्यक्रम में एमओयू हस्ताक्षरित करने वाले विभिन्न उद्यमियों को एमओयू पत्र प्रदान करते हुए सम्मानित किया। बांदा इनवेस्टर्स समिट में आज जनपद के विभिन्न उद्यमियों द्वारा 95 इंटेन्ट के माध्यम से 9849 करोड़ की धनराशि का इंटेन्ट प्राप्त हुआ हैं, जिसमें 1700 करोड़ रुपये की एमओयू हस्ताक्षरित किये गये।

सांसद बांदा-चित्रकूट आर.के.सिंह पटेल ने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र सहित जनपद बांदा में पर्यटन क्षेत्र विकसित करने व उद्योग स्थापित करने की अपार सम्भावनायें हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार उद्यमियों को विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गत उद्योग स्थापित करने हेतु 25 से 30 प्रतिशत तक का अनुदान दे रही है। उद्यमी इस योजना का लाभ उठाकर अधिक से अधिक उद्योग लगायें। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र को और अधिक विकसित करने के लिए कृषि आधारित उद्योग भी लगाने की आवश्यकता है।

सांसद महोबा-हमीरपुर पुष्पेन्द्र सिंह चन्देल ने कहा कि अन्य प्रदेशों की अपेक्षा उ.प्र. में उद्यमियों को बेहतर सुविधायें प्रदेश निवेश करने को प्रदान की जा रही हैं। बुन्देलखण्ड क्षेत्र में अब बेहतर विद्युत व्यवस्था, सड़क-एक्सप्रेस-वे व अन्य संसाधन सुलभ हो गये हैं। अतः उद्यमी इस क्षेत्र में अपने अन्य उद्योगों के साथ कृषि के खाद्य उत्पादों को बढ़ावा देने को उद्योग स्थापित करें तथा प्राकृतिक खेती एवं जैविक खेती से सम्बन्धित नये-नये उद्योग भी लगायें, जिससे कि किसानों को भी लाभ प्राप्त हो सके।

सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने कार्यक्रम में कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र के खजुराहो, चित्रकूट, कालिन्जर एवं रनगढ़ को जोडते हुए पर्यटन को बढावा देने को बेहतर पर्यटन क्षेत्र स्थापित किया जा सकता है। इसके साथ ही पर्यटन उद्योग से जुडे होटल, रिसार्ट आदि के साथ अन्य विभिन्न उद्योग भी लगाये जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि लोकल उत्पादों की ब्रान्डिंग करें और मार्केट दिलायें, जिससे कि छोटे-छोटे उद्यमियों को भी लाभ मिल सके।

आयुक्त चित्रकूटधाम मण्डल बांदा आर.पी.सिंह ने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र निश्चित रूप से ऐसा क्षेत्र है जहां पर पूंजी निवेश की भरपूर सम्भावनायें हैं। उन्होंने कहा कि उद्यमियों को इच्छाशक्ति से उद्योग स्थापित करने में कार्य किये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जनपद में 14 सौ करोड़ रुपये का इन्द्रप्रस्थ गैस लिमिटेड का सीएनजी का उद्योग स्थापित किया जा रहा है, जिससे आने वाले समय में गैस की सुविधा मिलेगी।

कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष सुनील पटेल, विधायक नरैनी ओममणि वर्मा, एमएलसी जतेन्द्र सिंह सेंगर, जिलाध्यक्ष संजय सिंह, पुलिस उप महानिरीक्षक विपिन कुमार मिश्र, पुलिस अधीक्षक अभिनंदन, मुख्य विकास अधिकारी वेद प्रकाश मौर्य, अपर जिलाधिकारी वि./रा. उमाकान्त त्रिपाठी, अपर जिलाधिकारी न्यायिक अमिताभ यादव, प्राचार्य मेडिकल कॉलेज मुकेश यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधि गण, उद्यमीगण डॉ. मनोज कुमार शिवहरे, मनोज जैन, श्याम जी निगम, अशोक गुप्ता, शैलेन्द्र कुमार सहित प्रबन्धक जिला उद्योग केन्द्र गुरूदेव अन्य उद्यमीगण एवं जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here