जानिये,अस्पतालों में बढ़ती भीड़ पर क्या कहते हैं, एम्स के निदेशक!

अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत के बीच एम्स के निदेशक डॉ. गुलेरिया ने कहा कि कई लोग सोचते हैं कि अभी से ही ऑक्सीजन घर पर रख लेता हूं, आनेवाले समय में यह मिले,न मिले।

कोरोना की सुनामी के कारण देश की स्वास्थ्य सेवा पर लगातार बोझ बढ़ता जा रहा है। इस वजह से अस्पतलों में बेड, ऑक्सीजन और अन्य जीवन रक्षक दवाइयों की किल्लत देखी जा रही है। कई जरुरतमंद अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं तो कई उपचार नहीं मिलने के कारण दम तोड़ रहे हैं। इन सबके बीच एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया कि आखिर कोरोना मरीजों को उपचार क्यों नहीं मिल पा रहा है।

जरुरतमंदों को उपचार नहीं मिलने के ये हैं कारण
डॉ. गुलेरिया ने बताया कि जो कोरोना संक्रमित हो जाते हैं, वे काफी पैनिक हो जाते हैं। उन्हें लगता है कि कहीं मुझे बाद में ऑक्सीजन और अस्पताल में भर्ती होने की जरुत न पड़ जाए, इसलिए मैं अभी से भर्ती हो जाता हूं। इस कारण अस्पतालों के बाहर भीड़ बहुत बढ़ जाती है और जरुरतमंद मरीजों को उपचार नहीं मिल पाता है।

ये भी पढ़ेंः मिलिये कोरोना योद्धाओं से! जब बेटी देती है पिता के सपनों को उड़ान

इसलिए है दवाइयों की कमी
डॉ. गुलेरिया ने कहा कि पैनिक होने के कारण वे घर पर पहले से ही दवाइयां शुरू कर देते हैं। इस कारण बाजार में दवाई की कमी हो जाती है। पहले ही दिन से सभी दवाई शुरू करने के कारण साइड इफेक्ट भी होने लगते हैं, जबकि इसका कोई लाभ नहीं होता है।

इसलिए है ऑक्सीजन की किल्लत
अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत के बीच डॉ. गुलेरिया ने बताया कि कई लोग सोचते हैं कि अभी से ही ऑक्सीजन घर पर रख लेता हूं, आनेवाले समय में यह मिले,न मिले। इन सब धारणाओं के कारण अस्पतालों में भीड़ बढ़ रही है और ऑक्सीजन तथा दवाओं की कमी हो रही है। इसमें मिसयूज बड़ फैक्टर है।

सलाह
डॉ. गुलेरिया ने कहा कि हमें कोरोना संक्रमण को किसी भी हाल में नियंत्रित करना होगा और अस्पतालों की साधन-सुविधाओं का बेहतर उपयोग करना होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here