धमकी या वैक्सीन निर्माण विस्तार! किस कारण सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ ने छोड़ा देश?

अदार पूनावाला के भारत सरकार ने वाई स्तर की सुरक्षा दी है। जो पूरे देश में उनके साथ रहेगी। इसमें कमांडो समेत 11 जवान होते हैं।

भारत में कोविशील्ड की निर्माता सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला लंदन में हैं। वहां उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा था कि उन्हें कुछ बड़े लोगों से धमकियां मिल रही थीं। वे कुछ दिनों में भारत लौटेंगे और कोविशील्ड के निर्माण की समीक्षा करेंगे।

देश में अदार पूनावाला को वाई स्तर की सुरक्षा प्रदान की गई थी। इसके बाद भी सीरम के सीईओ लंदन चले गए। वैसे उन्होंने बताया कि वे लंदन कोविशील्ड के निर्माण को विस्तार देने के लिए आए हैं। लंदन पहुंचने पर एक साक्षात्कार में अदार पूनावाला ने बताया कि, उन्हें भारत के प्रभावशाली लोगों के फोन आ रहे थे। धमकियां मिल रही थीं, इन फोन करनेवालों में कई मुख्यमंत्री, इंडस्ट्री चेंबर्स के प्रमुख और प्रभावशाली लोग शामिल हैं। कोविशील्ड पाने के लिए आक्रामता हावी है। सभी को सबसे पहले वैक्सीन चाहिए।

ये भी पढ़ें – स्वातंत्र्यवीर सावरकर कालापानी मुक्ति शतक पूर्ति! …ताकि हमारा अस्तित्व रहे कायम

इस बीच अदार पूनावाला ने ट्वीट करके सूचित किया है कि, लंदन में उनकी सभी भागीदारों और स्टेकहोल्डर्स के साथ बैठक हुई। कोविशील्ड की निर्माण तेजी से चल रहा है। भारत वापस आने पर निर्माण का पुनर्मूल्यांकन करूंगा।

भारत में टीका निर्माण की स्थिति
डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी ने साइंस एंड टेक्नोलॉजी पर आधारित संसदीय समिति को सूचित किया था कि सिरम इंस्टिट्यूट की कोविशील्ड वैक्सीन के निर्माण की कुल क्षमता लगभग 70-100 मीलियन डोज प्रतिमाह है। इसके अलावा भारत बायोटेक आईसीएमआर निर्मित कोवैक्सिन की निर्माण क्षमता 12.5 मीलियन डोज प्रतिमाह है।

मिली जानकारी के अनुसार टीका निर्माण करनेवाली कंपनियों ने सरकार से अर्थ सहाय की भी मांग की है। सिरम इंस्टिट्यूट मे केंद्र सरकार से 3,000 करोड़ रुपए के अर्थ सहाय की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here