कमजोर हुआ कोरोना! घरेलू विमान सेवा को लेकर सरकार ने लिया बड़ा फैसला

अब जहां देश में कोरोना के नियंत्रण में आने के संकेत मिल रहे है, वहीं तेजी से प्रतिबंधों में भी ढील दी जा रही है। इस बीच घरेलू हवाई सेवा को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है।

देश भर में नए कोरोना के मामलों में दिन-ब-दिन कमी आ रही है। इसके साथ ही देश में टीकाकरण ने भी रफ्तार पकड़ ली है। अब जहां स्थिति नियंत्रण में आने के संकेत मिल रहे है, वहीं तेजी से प्रतिबंधों में भी ढील दी जा रही है। इस बीच घरेलू हवाई सेवा को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला किया है। यह फैसला 18 अक्टूबर से पूरे देश में लागू हो जाएगा। 18 अक्टूबर से घरेलू विमान 100 प्रतिशत यात्री क्षमता के साथ उड़ान भर सकेंगे।

कोरोना काल में इस तरह लागू थे प्रतिबंध
बता दें कि इस साल जुलाई में, लंबे अंतराल के बाद, यात्री उड़ानें कुछ हद तक फिर से शुरू हुईं। 1 जुलाई से 5 जुलाई के बीच देश की एयरलाइंस को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ यात्रियों को ले जाने की इजाजत थी। 5 जुलाई से 12 अगस्त तक यात्री सीमा बढ़ाकर 65 प्रतिशत कर दी गई थी। 12 अगस्त से 18 सितंबर तक यह सीमा बढ़ाकर 72.5 प्रतिशत कर दी गई थी। इस महीने 18 सितंबर से 18 अक्टूबर तक यह सीमा बढ़ाकर 85 प्रतिशत कर दी गई। अब 18 अक्टूबर तक देश की एयरलाइंस 85 फीसदी यात्री क्षमता से उड़ान भर सकेंगी। उसके बाद ये विमान यात्रियों की 100 प्रतिशत क्षमता के साथ उड़ान भर सकेंगे।

ये भी पढ़ेंः आ गई बच्चों की वैक्सीन! कोवैक्सीन की मंजूरी का प्रस्ताव जमा

12 अक्टूबर को नई घोषणा
12 अक्टूबर को केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने घोषित किया है कि देश की यात्री एयरलाइंस को अब यात्रियों को पूरी यानी 100 प्रतिशत क्षमता के साथ उड़ान भरने की अनुमति दी गई है। 18 अक्टूबर से यात्री पूरी क्षमता से यात्रा कर सकेंगे। बता दें कि 9 अक्टूबर तक देश की सभी एयरलाइंस ने कुल 2,340 घरेलू उड़ानें भरीं। यह उनकी कुल क्षमता का 71.5 प्रतिशत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here