और युवा पुलिसकर्मी ने खून से लिखा, ‘आई एम सॉरी मॉम’

पुणे के ग्रामीण क्षेत्र में तैनात पुलिस कांस्टेबल रज्जाक के परिजन पिछले दो दिनों से उसे किसी काम से बुला रहे थे। लेकिन जब उसने फोन नहीं उठाया तो वे उस स्थान पर पहुंचे, जहां वह रहता था।

पुणे ग्रामीण पुलिस बल में कार्यरत एक जवान ने आत्महत्या कर ली है। पुलिसकर्मी का नाम रज्जाक मोहम्मद मनेरी है। रज्जाक के शव के पास से सॉरी मॉम लिखा हुआ एक नोट मिला है। फिलहाल पुलिस घटना की जांच कर रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रज्जाक इंदापुर तहसील के मनेरी का रहने वाला था। पिछले कुछ सालों से वह पुणे के भोर तहसील के राजगढ़ पुलिस स्टेशन में कार्यरत था।

रज्जाक के परिजन पिछले दो दिनों से उसे किसी काम से बुला रहे थे। हालांकि जब उसने फोन नहीं उठाया तो वे उस स्थान पर पहुंचे, जहां वह रहता था। मौके पर पहुंचने पर परिजनों ने देखा कि रज्जाक का गला घोंट दिया गया है।

सुसाइड नोट बरामद
रज्जाक के परिजनों ने तुरंत पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल की तलाशी ली। इसी क्रम में  उसे रज्जाक के शव के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ। इसमें रज्जाक ने खून से लिखा था, ‘सॉरी मॉम’। अपनी गला घोंटने से पहले रज्जाक ने हाथ की नस भी काट ली थी। इसके बाद उसने फांसी के फंदे पर लटटकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी। फिलहाल मामले की पूरी जांच की जा रही है। लेकिन युवा पुलिसकर्मी रज्जाक मनेरी ने आत्महत्या क्यों की? अभी तक इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

ये भी पढ़ेंः अब ओबीसी का चक्काजाम… भाजपा का आरोप ‘वो’ चुनाव अयोग्य

भाई भी है पुलिस कांस्टेबल
यह घटना पुणे की राजगढ़ पुलिस लाइन की है। यहां के सरकारी क्वार्टर से पुलिस कांस्टेबल रज्जाक मोहम्मद मणेरी की लाश बरामद हुई। कांस्टेबल रज्जाक पुणे जिले के राजगढ़ पुलिस स्टेशन में तैनात था। वह मूल रूप से बावडा गांव, तालुका इंदापुर का रहने वाला था। रज्जाक के पिता भी महाराष्ट्र पुलिस में कार्यरत थे, जबकि उसका बड़ा भाई तौसीफ भी महाराष्ट्र पुलिस में कांस्टेबल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here