बड़ा कदम! अब इन पर नहीं लगेगा कस्टम और हेल्थ सेस

देश स्वास्थ्य संसाधनों की कमी से जूझ रहा है। ऐसे में विदेशों से भी संसाधन, वैक्सीन और कोरोना की दवाइयों का एपीआई मंगाया जा रहा है। वायुसेना के विमान सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कन्टेनर्स ला रहे हैं।

कोरोना से चल रही जंग में केंद्र सरकार ने महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। आयातित ऑक्सीजन और ऑक्सीजन संसाधनों को अब कस्टम ड्यूटी से मुक्त कर दिया गया। इसके अलावा कोरोना वैक्सीन पर भी आयात शुल्क में छूट दी गई है। इसके अलावा कस्टम विभाग को आयातित संसाधनों को तुरंत क्लियरेन्स देने का आदेश दे दिया गया है।

देश में ऑक्सीजन भारी कमी हो गई है। अस्पतालों में मरीज ऑक्सीजन खत्म होने के कारण दम तोड़ रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में केंद्र सरकार सिंगापुर, जर्मनी, अमेरिका आदि देशों से ऑक्सीजन संसाधन और वैक्सीन और उसकी एपीआई आयात कर रही है। कोरोना लहर से उत्पन्न समस्याओं को लेकर प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में एक बैठक संपन्न हुई। इसमें प्रधानमंत्री ने इस पर जोर दिया कि, अब मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन और संसाधनों की तत्काल आवश्यकता है। ये आवश्यकता अस्पताल और संक्रमितों के घरों में भी है। इसके लिए प्रधानमंत्री ने सभी मंत्रालयों को एकजुट होकर कार्य करने पर बल दिया जिससे ऑक्सीजन और मेडिकल सप्लाई सुनिश्चित की जा सके।

ये भी पढ़ें – भ्रष्टाचार मामला: महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री पर दर्ज हुई एफआईआर 

इन संसाधनों के आयात में सरकारी सहायता

  • रेमडेसिविर और उसके एपीआई (एक्टिव फार्मास्युटिकल इन्ग्रेडियन्ट) पर आयात कर माफ
  • ऑक्सीजन संसाधन के आयात को तेज गति से लाया जाए
  • ऑक्सीजन निर्माण और ऑक्सीजन से संबंधित संसाधन के आयात में सौ प्रतिशत आयात शुल्क माफ
  • ऑक्सीजन कॉन्सेन्ट्रेटर, ऑक्सीजन, कनिस्टर, फिलिंग सिस्टम, स्टोरेज टैंक, वेन्टिलेटर, कम्प्रेसर आदि पर सौ प्रतिशत आयात शुल्क में छूट
  • कोविड वैक्सीन पर आयात शुल्क तत्काल प्रभाव से माफ (तीन महीने के लिए)
  • स्वास्थ्य संसाधनों के आयात को तुरंत मिले कस्टम क्लियरेन्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here