देश विभाजन का दर्द ऐसे किया जाएगा याद!

भारत का विभाजन मानव इतिहास में सबसे बड़े विस्थापनों में से एक है, जिससे लगभग 20 मिलियन लोग प्रभावित हुए। लाखों परिवारों को अपने पैतृक गांवों,कस्बों और शहरों को छोड़ना पड़ा और शरणार्थी के रूप में एक नया जीवन जीने के लिए मजबूर होना पड़ा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अगस्त को हर वर्ष विभाजित विभीषिका स्मृति दिवस के रुप में मनाने की घोषणा की है। पीएम ने यह घोषणा करते हुए कहा कि यह दिन हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने की न केवल याद दिलाएगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्भाव और मानव सशक्तिकरण की भावना भी और मज़बूत होगी।”

पीएम ने कहा कि राष्ट्र के विभाजन के कारण अपनी जान गंवाने वाले और अपनी जड़ों से विस्थापित होने वाले सभी लोगों को उचित श्रद्धांजलि के रूप में, सरकार ने हर साल 14 अगस्त को उनके बलिदान को याद करने के दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है। इस तरह के दिवस की घोषणा से देशवासियों की वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों को विभाजन के दौरान लोगों द्वारा झेले गए दर्द और पीड़ा की याद आएगी। इसलिए सरकार 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्‍मृति दिवस के रूप में घोषित करती है।

पीएम ने किया ट्वीट
प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, “देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी। उन लोगों के संघर्ष और बलिदान की याद में 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया है। यह दिन हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने के लिए न केवल प्रेरित करेगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्भाव और मानवीय संवेदनाएं भी मजबूत होंगी”

लाखों भारतीयों पर पीड़ा के स्थायी निशान छोड़े
बता दें कि भारत को 15 अगस्त, 1947 को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली। इसलिए हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रुप में मनाया जाता है। यह किसी भी राष्ट्र के लिए एक खुशी और गर्व का अवसर होता है। हालांकि, स्वतंत्रता की मिठास के साथ-साथ देश को विभाजन का आघात भी सहना पड़ा। नए स्वतंत्र भारतीय राष्ट्र का जन्म विभाजन के हिंसक दर्द के साथ हुआ, जिसने लाखों भारतीयों पर पीड़ा के स्थायी निशान छोड़े।

ये भी पढ़ेंः पीयूष गोयल ने क्यों कहा, ‘उद्योगपतियों के लिए 10 पैसे का लाभ देशहित से ज्यादा प्यारा!’

सबसे बड़ा विभाजन
यह विभाजन मानव इतिहास में सबसे बड़े विस्थापनों में से एक है, जिससे लगभग 20 मिलियन लोग प्रभावित हुए। लाखों परिवारों को अपने पैतृक गांवों,कस्बों और शहरों को छोड़ना पड़ा और शरणार्थी के रूप में एक नया जीवन जीने के लिए मजबूर होना पड़ा। विभाजन का दर्द और हिंसा देश की स्मृति में गहराई से अंकित है। हालांकि, देश बहुत आगे बढ़ गया है और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र के साथ ही तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। लेकिन देश के विभाजन के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। इसलिए प्रधानमंत्री मोदी ने इस दिन को हर वर्ष विभाजित विभीषिका स्मृति दिवस के रुप में मनाने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here