इस वैक्सीन का टीका लेने वालों को यूरोपीय संघ के देशों में नो एंट्री!

यूरोपीय संघ के देशों का भारत में तैयार की जा रही वैक्सीन को लेकर सौतेलापन देखने को मिल रहा है। इसे लेकर वैक्सीन किंग अदार पुनावाला ने नाराजगी जताई है।

किसी काम या शिक्षा के लिए विदेश जाने वाले नागरिकों के लिए कोरोना का टीका लगवाना जरूरी है। ऐसे लोगों के लिए, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविशील्ड की दो खुराक के बीच के अंतराल को भी कम कर दिया है। लेकिन, ऐसी खबरें आ रही हैं कि यूरोपीय संघ के देशों की यात्रा करने वाले उन भारतीयों को, जिन्हें कोविशील्ड वैक्सीन का टीका लगाया गया है, यूरोपीय संघ के देशों की यात्रा करने की अनुमति नहीं है। यह मुद्दा सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पुनावाला ने उठाया है। उन्होंने ट्वीट किया है कि वे इस संबंध में निश्चित रूप से ठोस कदम उठाएंगे।

यह है पुनावाला का ट्वीट
‘मुझे जानकारी मिली है कि जिन लोगों को कोविशील्ड का टीका लगाया गया है, उन्हें यूरोपीय संघ के देशों की यात्रा करने से रोका जा रहा है। मैंने इस पर गौर किया है और मैं निश्चित रूप से भारतीय नागरिकों को यात्रा करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करूंगा।” उन्होंने यह भी उम्मीद जताई कि यूरोपीय देशों के साथ विचार-विमर्श कर जल्द से जल्द राजनीतिक और नियामक स्तर पर इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा।

ये भी पढ़ेंः ट्विटर है कि मानता नहीं! अब की ऐसी हिमाकत

कोविशील्ड को मान्यता प्राप्त नहीं
बता दें कि यूरोपीय संघ की चिकित्सा नियामक संस्था, यूरोपीयन मेडिसिन एजेंसी द्वारा केवल चार टीकों को मंजूरी दी गई है। उनमें वैक्सरवेरिया वैक्सीन शामिल है, जिसे एस्ट्राजेनेका द्वारा यूरोप में विकसित किया गया है। लेकिन यूरोपीय संघ के देशों ने कोविशील्ड को अनुमति देने से इनकार कर दिया है, जिसे एस्ट्राजेनेका की ओर से ङी भारत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में विकसित किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here