धारावी ने दी ये खुशखबरी!

देश में पिछले एक हफ्ते से हर दिन औसतन 25 हजार से कम कोरोना के केस पाए गए हैं। लेकिन अभी कोरोना के खतरे को कम करके आंकना खतरनाक हो सकता है। ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन की वजह से भारत को सतर्क रहने की जरुरत है।

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई स्थित एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी को लेकर गुड न्यूज है। यहां पिछले 24 घंटे में एक भी कोरोना मरीज नहीं मिला है। अप्रैल 2020 के बाद पहली बार यहां एक भी कोरोना मरीज का न मिलना धारावीवासियों साथ ही मुंबई महानगरपालिका के लिए खुशी की बात है।

मनपा से मिली जानकारी के अनुसार धारावी में फिलहाल कोरोना के कुल केस 3,788 हैं, जबकि इसके एक्टिव केस 12 हैं। इनमें से 8 को घरों में और चार को एक कोविड सेंटर में क्वारंटाइन किया गया है। इसके साथ ही धारावी में अब तक 3,464 लोग रिकवर कर चुके हैं। करीब 2.5 वर्ग किलोमीटर में फैले इस झोपड़पट्टी की आबादी 15 के आसपास है।

मामले कम लेकिन खतरा बरकरार
इस बीच देश में पिछले एक हफ्ते से हर दिन औसतन 25 हजार से कम कोरोना के केस पाए गए हैं। लेकिन अभी कोरोना के खतरे को कम करके आंकना खतरनाक हो सकता है। ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन की वजह से भारत को सतर्क रहने की जरुरत है।

ब्रिटेन से लौटे लोगों से खतरा
यूरोपीय देशों में कोरोना वायरस के नये स्ट्रेन पाए जाने के कारण पूरी दुनिया में हड़कंप मचा हुआ है। एहतियात के तौर पर विश्व के 40 देशों ने फिलहाल यूरोपियन कंट्री ब्रिटेन से हवाई सेवा बंद कर दी है। इस बीच 25 नवंबर से 24 दिसंबर के बीच मुंबई में करीब 15 सौ लोग आए हैं। इन्हें कोरोना संक्रमित होने के साथ ही इनमें कोरोना के नये स्ट्रेन पाए जाने की शंका व्यक्त की जा रही है। इसके मद्देनजर मुंबई महानगरपालिका ने सुरक्षात्मक कदम उठाये हैं। मनपा ने उनसे अनुरोध किया है कि अगर उनमें कोरोना के कोई भी लक्षण पाए जाते हैं तो वे वॉर्ड वॉर रुम से संपर्क करें। इसके साथ ही मनपा ने उनके घरों में जाकर कोविड-19 टेस्ट करने का निर्णय लिया है।

ये भी पढ़ेंः सावधान… वैक्सीन पर अब है आतंकी नजर!

तेजी से फैल रहा है कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन
ब्रिटेन में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के नये स्ट्रेन की जानकारी मिल रही है। इसलिए ब्रिटेन समेत यूरोपियन देशों से आए लोगों को इससे संक्रमित होने का खतरा है। इसके मद्देनजर मुंबई मनपा ने एहतियाती कदम उठाते हुए उनके घरों में जाकर उनकी कोरोना जांच करने का फैसला किया है। बता दें कि फिलहाल महाराष्ट्र सरकार के साथ ही केंद्र सरकार ने भी ब्रिटेन से आने और जानेवाले विमानों पर रोक लगा दी है।

ब्रिटेन से आए पांच कोरोना संक्रमित फरार
22 दिंसबर को ब्रिटेन से दिल्ली आये पांच कोरोना संक्रमित के भाग जाने का मामला प्रकाश में आया है। इनमें से तीन लोग दिल्ली में ही पाए गए हैं, जबकि एक जालंधर चला गया था। दूसरा आंध्र प्रदेश चला गया था। इन दोनों को 23 दिसंबर को पकड़कर दिल्ली लाया गया। मिली जानकारी के अनुसार संक्रमितों में से एक अमृतसर के पंडोरी गांव का 46 वर्षीय व्यक्ति था। वह बिना किसी को भनक लगे दिल्ली एयर पोर्ट से बाहर निकल गया और जालंधर चला गया। वहां जाकर उनसने एक प्राइवेट हॉस्पिटल में चेक अप कराया। फिलहाल उसे दिल्ली लाया गया है।

11 लोग पाए गए संक्रमित
ब्रिटेन से दिल्ली एयर पोर्ट पर पहुंचे 11 यात्रियों में कोरोना संक्रमित पाया गया है। दिल्ली एयर पोर्ट पर सभी यात्रियों की कोरोना टेस्ट की जांच का काम जेनिस्ट्रिंग्स डायग्नोस्टिक सेंटर को सौंपा गया है। इसकी संस्थापक गौरी अग्रवाल में बताया कि चार उड़ानों के 50 यात्रियों को क्वारंटाइन किया गया है।

दिल्ली सरकार सतर्क
ब्रिटेन में कोरोना के नये स्ट्रेन पाए जाने के बाद दिल्ली सरकार सतर्क है और वहां से आनेवाले यात्रियों को अलग आइसोलेटेड फैसिलिटी में रखा जा रहा है। इसके लिए दिल्ली सरकार ने लोक नायक अस्पताल को अलग से आइसोलेशन यूनिट बनाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here