दिल्ली बनी क्राइम कैपिटल! जानिये, मुंबई-जयपुर में अपराध का क्या है हाल

वर्ष 2020 में दिल्ली ने उन मामलों में बेहतर दर्जा प्राप्त किया, जिनमें आरोप पत्र दाखिल किए गए थे। इन मामलों में आरोपियो को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया।

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के वर्ष 2020 के आपराधिक डाटा में देश के महत्वपूर्ण शहरों में क्राइम का क्या हाल है, इसका खुलासा हुआ है। बीते वर्ष में देश की राजधानी दिल्ली में विभिन्न तरह के अपराधों में बढ़ोतरी हुई है। राष्ट्रीय राजधानी में 2020 में हत्या के प्रयास के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। इसके साथ ही देश के 20 लाख से अधिक जनसंख्या वाले 19 शहरों में दिल्ली ठगी और धोखाधड़ी के मामले में सबसे आगे है।

एनसीआरबी द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में अपराध के कुल 4,445 मामले दर्ज हुए, जबकि दूसरे क्रमांक पर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई रही। यहां 3,927 मामले दर्ज किए गए। राजस्थान की राजधानी जयपुर तीसरे क्रमांक पर है। यहां कुल 3,217 आपराधिक मामले दर्ज किए गए। जयपुर की आबादी करीब 10 लाख है और इस लिहाज से यहां का क्राइम रेट सबसे अधिक 10.4 है। दिल्ली का क्राइम रेट जहां 2.72 है, वहीं मुंबई का 2.13 है।

ये भी पढ़ेंः रूस की पर्म यूनीवर्सिटी में फायरिंग, इमारत से ऐसे कूदे छात्र.. देखें वीडियो

44.5 प्रततिशत में चार्जशीट दायर
वर्ष 2020 में दिल्ली ने उन मामलों में बेहतर दर्जा प्राप्त किया, जिनमें आरोप पत्र दाखिल किए गए थे। इन मामलों में आरोपियो को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। दिल्ली पुलिस ने कुल 4,445 आपराधिक मामलों में से 44.5 प्रतिशत में चार्जशीट दायर की। हालांकि 2020 में हत्या के मामलों में यहां वृद्धि हुई।

खास बात

  • वर्ष 2019 में दिल्ली में जहां हत्या के 521 मामले दर्ज हुए थे, वहीं 2020 में 472 केस दर्ज हुए।
  • वर्ष 2019 में जहां हत्या के प्रयास के 487 मामले दर्ज हुए थे, वहीं 2020 में 570 हत्या के प्रयास किए गए।
  • 2020 में गैर इरादतन हत्या के 58 मामले दर्ज किए गए।
  • वर्ष 2020 में रेप के 1699 केस दर्ज किए गए, जबकि वर्ष 2019 में इनकी संख्या 2163 थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here