दोहरी जिम्मेदारी! ढाई महीने के बच्चे के साथ विधायक ‘मां’ सत्र में हुईं शामिल

19 दिसंबर शीत सत्र का पहला दिन था। इस दिन नासिक के देवलाली विधानसभा क्षेत्र की राष्ट्रवादी कांग्रेसे पार्टी की विधायक सरोज अहिरे-वाघ चर्चा का विषय बन गईं।

महाराष्ट्र विधानमंडल का शीतकालीन सत्र 19 दिसंबर से नागपुर में शुरू हो गया है। 19 दिसंबर सत्र का पहला दिन था। इस पहले दिन नासिक के देवलाली विधानसभा क्षेत्र की राष्ट्रवादी कांग्रेसे पार्टी की विधायक सरोज अहिरे-वाघ चर्चा का विषय बन गईं। वजह खास है। वे महज ढाई महीने के बच्चे को लेकर विधान भवन पहुंचीं। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि यह पल काफी सुखद है।

विधायक सरोज अहिरे-वाघ ने कहा, “मैं मां हूं और नासिक के देवलाली निर्वाचन क्षेत्र से विधायक हूं। इसलिए दोनों कर्तव्य महत्वपूर्ण हैं। चूंकि बच्चा ढाई महीने का ही है, वह मेरे बिना नहीं रह सकता, इसलिए मैं इसे लेकर आई हूं।” अहिरे ने कहा कि क्षेत्र की जनता के मुद्दे मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं, मेरे क्षेत्र को न्याय दिलाने के लिए मुझे सत्र में शामिल होना जरुरी है।

अधिवेशन में ढाई माह का बच्चा
बच्चे का नाम प्रशंसक प्रवीण वाघ है और उसका जन्म 30 सितंबर 2022 को हुआ है। इसके बाद सरोज अहिरे, उनके पति प्रवीण वाघ और परिवार के अन्य सदस्यों ने अधिवेशन के लिए पहली बार बच्चे को घर से निकाला और विधान भवन में आए। उन्होंने विधान भवन में शिशुओं के लिए बनाए गए विशेष कक्ष में प्रशंसक को रखकर विधान सभा की कार्यवाही में भाग लिया। विधायक मां ने कहा कि यहां परिवार बच्चे की देखभाल करेगा, जबकि मैं सत्र में निर्वाचन क्षेत्र के मुद्दों को उठाऊंगी। फिलहाल पता नहीं है कि सत्र कब तक चलेगा, लेकिन मैं अपने क्षेत्र के अधिक से अधिक मुद्दों को उठाने की कोशिश करूंगी।

समृद्धि हाईवे से सीधे नागपुर पहुंचा बच्चा
राष्ट्रवादी कांग्रेसे पार्टी की विधायक सरोज अहिरे-वाघ ने यह भी कहा कि दुनिया की कई महिलाएं इन दोनों बातों का ध्यान रखकर अपना कर्तव्य निभा रही हैं। प्रशंसक छोटा है, इसलिए वह यहां लाया गया क्योंकि वह मेरे बिना नहीं रहता। मैं निर्वाचन क्षेत्र के मुद्दों को उठाने के लिए सत्र में भाग लेने आई हूं। प्रशंसक के जन्म के बाद यह पहली बार है कि उसे बाहर लाया गया है। हम नागपुर समृद्धि हाईवे से सीधे नागपुर पहुंचे हैं। जनप्रतिनिधि के रूप में कर्तव्य का पालन करना आवश्यक है, साथ ही एक मां का कर्तव्य निभाना भी जरुरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here