ऐसे तो कोरोना गेटआउट… मुंबई के नाम बड़ी सफलता

कोविड-19 से संक्रमित राज्यों में महाराष्ट्र का नाम सबसे आगे रहा है। इसमें केरल और महाराष्ट्र में संक्रमितों के आंकड़ों का घटना बढ़ना लगातार चलता रहा है।

मुंबई शहर कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित शहरों मे रहा है। जनसंख्या घनत्व के कारण भी संक्रमण का खतरा सबसे अधिक इस शहर में है। इसीलिए शहर के नागरिकों के टीकाकरण के लिए विशेष रूप से प्रचार प्रसार किया गया, निजी संस्थानों, सामाजिक संस्थाओं और नेताओं ने कोविड-19 कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसके बाद मुंबई ने वह लक्ष्य प्राप्त कर लिया जो अब तक देश में किसी नहीं प्राप्त किया है।

मुंबई ने कोविड-19 टीकाकरण में एक करोड़ का आंकड़ा प्राप्त कर लिया है। शहर की आधी जनसंख्या अब टीके से लैस हो गई है। इसका प्रभाव आनेवाले दिनों में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों पर दिख सकता है। कोविन पोर्टल के अनुसार जो आंकड़े सामने आए हैं वह उत्साहवर्धक है।

  • शहर में 1,00,63,497 लोगों का टीकाकरण हुआ
  • पहली डोज लेनेवाले 72,75,134
  • दोनों डोज लेनेवाले 27,88,363
  • कुल टीकाकरण केंद्र 507
  • सरकारी टीकाककरण केंद्र 325
  • निजी अस्पतालों के केंद्र 182

पिछले 30 दिनों में सबसे अधिक टीकाकरण हुए। जिसमें 27 अगस्त को 1,77,017 लोगों का टीकाकरण किया गया। इसके पहले 21 अगस्त को 1,63,775 और 23 अगस्त को 1,53,881 लोगों का टीकाकरण किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here