लौटी नाइट लाइफ: इस दिन से महाराष्ट्र में देर रात तक खाओ, पियो और घूमो!

पूरे देश के साथ ही महाराष्ट्र में भी कोरोना से राहत मिलती देख अब तक कई तरह की पाबंदियां हटा ली गई हैं और जन-जीवन तेजी से सामान्य हो रहा है।

पूरे देश के साथ ही महाराष्ट्र में भी कोरोना से राहत मिल रही है। इस स्थिति में लागू प्रतिबंधों में एक-एक कर ढील देने का सिलसिला शुरू है। महाराष्ट्र में भी अब तक कई तरह की पाबंदियां हटा ली गई हैं और जन-जीवन तेजी से सामान्य हो चला है। अब रेस्टोरेंट और दुकानों के खुलने की समय सीमा बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। इस बारे में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने टास्क फोर्स के साथ बैठक कर चर्चा  की है। इसके साथ ही एम्यूजमेंट पार्क में राइड्स की भी इजाजत देने का निर्णय लिया गया है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में 18 अक्टूबर को वर्षा बंगले में बैठक हुई। बैठक में बच्चों की टास्क फोर्स के सदस्य भी उपस्थित थे। बताया गया है कि 22 अक्टूबर से एम्यूजमेंट पार्क भी खुलेंगे।

डेंगू और चिकनगुनिया का भी खतरा
बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड के अलावा डेंगू और चिकनगुनिया के मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है और उनके इलाज पर  भी पर्याप्त ध्यान दिया जाना चाहिए। हम कोरोना के कारण लगी पाबंदियों में धीरे-धीरे ढील दे रहे हैं और मरीजों की संख्या कम होती दिख रही है। 22 अक्टूबर से हमने सिनेमाघरों के साथ ही नाट्यगृह भी खोलने की अनुमति दे दी है। रेस्तरां और दुकानों के खुलने का समय बढ़ाने की लगातार मांग की जा रही है। इसलिए हमने इस बारे में दिशानिर्देश जारी किया है।

ये भी पढ़ेंः टीकाकरण अभियान में भारत की ऊंची उड़ान, इस तारीख तक बनेगा ऐसा कीर्तिमान

तीसरी लहर का खतरा बरकरार
मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को बच्चों के टीकाकरण को लेकर केंद्र के संपर्क में रहने और इस संबंध में निर्णय होते ही टीकाकरण की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर थम गई है, लेकिन तीसरी लहर का खतरा अभी भी बना हुआ है। इसलिए नियमित मास्क पहनने, सुरक्षित दूरी बनाए रखने और हाथों को हमेशा साबुन-पानी से धोते रहने के नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है।

इन पर भी नजर रखने की सलाह
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए दुनिया में नए-नए प्रयोग हो रहे हैं और नई दवाओं के मामले में उनकी प्रभावशीलता, कीमत, उपलब्धता की जानकारी अभी से ही दी जानी चाहिए। इसके लिए संबंधित विभाग को सजग रहना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here