मां तुझे प्रणाम योजनाः वाघा बार्डर के लिए मप्र की इतनी बेटियां रवाना

"मां तुझे प्रणाम" योजना में 2 मई को राज्य की 196 लाड़ली लक्ष्मी बालिकाएं अंतर्राष्ट्रीय सीमा वाघा-हुसैनीवाला (पंजाब) के भ्रमण के लिए रवाना हुईं।

प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर शुरू हुई “मां तुझे प्रणाम” योजना में 2 मई को राज्य की 196 लाड़ली लक्ष्मी बालिकाएं अंतर्राष्ट्रीय सीमा वाघा-हुसैनीवाला (पंजाब) के भ्रमण के लिए रवाना हुईं।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में वर्ष 2013 से शुरू हुई इस योजना में पहली बार प्रदेश की लाड़ली लक्ष्मी बालिकाएं वाघा बार्डर जा रही हैं। जिन्हें मुख्यमंत्री चौहान ने दोपहर एक बजे राजधानी भोपाल के रविन्द्र भवन से रवाना किया। खेल एवं युवा कल्याण विभाग की इस योजना की चयनित बालिकाओं को गृह निवास यात्रा का किराया, दैनिक भत्ता, आवास, भोजन, स्थानीय यातायात व्यवस्था, रेल आरक्षण व्यवस्था, ट्रेक सूट, टी-शर्ट और किट बेग उपलब्ध कराए जाते हैं।

ये भी पढें – गोरखपुर -अयोध्या के बीच चली अनारक्षित स्पेशल ट्रेन, प्रभु श्री राम की नगरी में जाना हुआ आसान

इस संबंध में बिन्दु सुनील जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि योजना में वाघा बार्डर जाने वाली लाड़ली लक्ष्मियों में भोपाल संभाग से 20, इंदौर संभाग से 31, ग्वालियर से 15, उज्जैन से 26, नर्मदापुरम से 11, शहडोल से 15, रीवा से 12, चम्बल से 9, सागर से 26 और जबलपुर संभाग से 31 लाड़ली लक्ष्मियां शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि अब तक इस योजना में लगभग 12 हजार 672 युवाओं को लेह-लद्दाख, कारगिल-द्रास, आर.एस.पुरा, वाघा-हुसैनीवाला, तानोत माता का मंदिर, लोगेंवाल, कोच्चि, बीकानेर, बाड़मेर, नाथूराम-दर्रा, पेट्रापोल, तुरा, जयगाँव, अडंमान निकोबार एवं कन्या कुमारी की अनुभव यात्रा कराई गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here