चेंबर का धर्मांतरण कराने के लिए इस्तेमाल करता था वकील! बार काउंसिल ने किया ऐसा

आरोपी वकील इकबाल मलिक ने पहाड़गंज के रहनेवाले सोहन सिंह तोमर की बेटी आरती का धर्मांतरण कराने के बाद उसका निकाह करा दिया था। उसके पिता ने इस मामले की शिकायत पुलिस में की थी। इसके साथ ही दिल्ली बार काउंसिल में भी वकील की शिकायत की थी।

दिल्ली बार काउंसिल ने धर्मांतरण और निकाह के लिए अपने चेंबर का इस्तेमाल करने के आरोप में एक वकील का लाइसेंस निलंबित कर दिया है। इस बारे में जानकारी देते हुए दिल्ली बार काउंसिल के सचिव पीयूष गुप्ता ने कहा कि आरोपी वकील के खिलाफ शिकायत मिलने के बाद कार्रवाई की गई है।

इस मामले में बार काउंसिल के कड़कड़डूमा कोर्ट के जिला न्ययाधीश से आरोपी वकील के चैंबर का आवंटन रद्द कर इसे सील करने और अवैध गतिविधियों को तत्काल रोकने का अनुरोध किया गया था।

एक युवती का कराया था धर्मांतरण और निकाह
आरोपी वकील का नाम इकबाल मलिक बताया गया है। इकबाल ने पहाड़गंज के रहनेवाले सोहन सिंह तोमर की बेटी आरती का धर्मांतरण कराने के बाद उसका निकाह करा दिया था। उसके पिता ने इस मामले की शिकायत पुलिस से की थी। इसके साथ ही दिल्ली बार काउंसिल में भी वकील की शिकायत की थी। बार काउंसिल ने जांच में उनकी शिकायत को सही पाया। उसके बाद उसने इकबाल मलिक के खिलाफ कार्रवाई की।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्र: ओबीसी आरक्षण के मुद्दे पर भाजपा के 12 निलंबित

वकील भी थे परेशान
जिस युवती का धर्मांतरण कराया गया था, वह मई में गायब हो गई थी। उसके परिजनों ने तब इस मामले में अपहरण का मुकदमा पांडव नगर पुलिस थाने में दर्ज कराया था। धर्मांतरण के बाद युवती का नाम अरशी रख दिया गया था। मिली जानकारी के अनुसार वकील इकबाल मलिक की इस तरह की हरकतों से दूसरे वकील भी परेशान थे। उनका कहना था कि ऐसा करने से न्यायिक परिसर की बदनामी होती है। इसके साथ ही वकीलों की इमेज भी खराब होती है।

धर्मांतरण कराने के गिरोह का पर्दाफाश
बता दें कि हाल ही में यूपी एटीएएस ने दिल्ली-एनसीआर में धर्मांतरण कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस मामले में मौलाना उमर गौतम के साथ ही जहांगीर कासिम को भी गिरफ्तार किया गया है। इनसे पूछताछ के बाद एक हजार से अधिक लोगों का धर्मांतरण कराए जाने का खुालासा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here