यूपी में पांच हजार एकड़ में बनेगी नॉलेज स्मार्ट सिटी, अमेरिका की इस यूनिवर्सिटी से हुआ करार

मुख्यमंत्री योगी ने 10-12 फरवरी के मध्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में होने जा रही ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के जरिए 10 लाख करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है।

विदेशी निवेश जुटाने के लिए विदेश गई टीम योगी को बड़े पैमाने पर निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इस क्रम में अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में आस्टिन यूनिवर्सिटी के साथ टीम योगी ने नॉलेज स्मार्ट सिटी के लिए एमओयू साइन किया। यह नॉलेज स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट पांच हजार एकड़ की जमीन पर बनाया जाएगा।

नॉलेज स्मार्ट सिटी के बारे में फिलहाल ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है लेकिन इतना जरूर कहा गया है कि इसमें दुनिया की बेस्ट यूनिवर्सिटीज का समावेश होगा। इसके अलावा सिंगापुर में भी निवेश के कई प्रस्ताव और एमओयू पर हस्ताक्षर हुए हैं। स्टार कंसोर्टियम प्रदेश में डाटा सेंटर व लॉजिस्टिक सेवाएं प्रदान करेगा तो एसएलजी कैपिटल डाटा सेंटर बनाएगा। इन निवेश प्रस्तावों व एमओयू से प्रदेश के लोगों को हजारों रोजगार के साधन उपलब्ध हो सकेंगे।

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी ने 10-12 फरवरी के मध्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में होने जा रही ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के जरिए 10 लाख करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य की पूर्ति के लिए मुख्यमंत्री ने मंत्रियों व अधिकारियों की आठ टीमों को 18 देशों में रोड शो व ट्रेड शो के जरिए निवेश आकर्षित करने के लिए भेजा है।

उच्च शिक्षा की बदलेगी तस्वीर
अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में यूएस बेस्ड सलोनी हार्ट फाउंडेशन ने उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना और अपर मुख्य सचिव (बुनियादी ढांचा व औद्योगिक विकास) अरविंद कुमार की मौजूदगी में एमओयू साइन किया। वहीं आस्टिन यूनिवर्सिटी ने उत्तर प्रदेश में नॉलेज स्मार्ट सिटी के लिए 42 बिलियन डॉलर (करीब 35 हजार करोड़ रुपये) का एमओयू साइन किया गया। यह नॉलेज स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को पांच हजार एकड़ की जमीन पर बनाया जाएगा। आस्टिन यूनिवर्सिटी के प्रेसीडेंट अशरफ अली मुस्तफा ने इस एमओयू के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस प्रोजेक्ट में बेस्ट यूनिवर्सिटीज आएंगी। उम्मीद है कि इस प्रोजेक्ट से भारत और अन्य जगहों पर उच्च शिक्षा की तस्वीर पूरी तरह बदल जाएगी। वहीं, फाल्कन एक्स के सीईओ मुरली चिराला के साथ भी तीन एमओयू साइन हुए। इनमें विशेष रूप से नोएडा में एक सेंटर बनाया जाएगा। इसके साथ ही 20-20 करोड़ के दो निवेश उत्तर प्रदेश में किए जाएंगे। फाल्कनएक्स एक फिनटेक स्टार्टअप कंपनी है। इसके एंटरप्रेन्योर्स द्वारा इन्वेस्ट यूपी के तहत इंक्यूबेटर्स व एक्सिलरेटर्स यूनिट लगाने में रुचि दिखाई गई है। यह प्रतिनिधिमंडल सैन फ्रांसिस्को में ग्लोबल एंटरप्रेन्योरशिप ऑर्गनाइजेशन टाई के मेंबर्स व सिलिकॉन वैली के निर्माण में योगदान देने वाले भारतीयों से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने उनसे यूपी में सिलिकॉन वैली बनाने की अपील की, ताकि भारतीय भी इसका लाभ उठा सकें। उधर, जापान में रोड शो के दौरान सीको एडवांस लिमिटेड के डायरेक्टर युकीनोरी कोबे ने उत्तर प्रदेश सरकार के साथ गौतम बुद्ध नगर में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए 850 करोड़ रुपए का एमओयू साइन किया। इस एमओयू के जरिए प्रदेश के लोगों के लिए 200 से ज्यादा रोजगार के अवसर सृजित होंगे।

सिंगापुर से डाटा सेंटर के लिए होगा निवेश
यूपीसीडा ने सिंगापुर में जलशक्ति मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह की मौजूदगी में स्टार कंसोर्टियम प्रा. लि. के साथ उत्तर प्रदेश में डाटा सेंटर व लॉजिस्टिक सेवाओं के लिए एमओयू साइन किया। इस एमओयू के जरिए उत्तर प्रदेश में 2000 करोड़ का निवेश आएगा। इसी तरह सिंगापुर के एसएलजी कैपिटल के साथ भी प्रदेश में डाटा सेंटर के लिए एमओयू किया गया। 100 करोड़ डॉलर (8273 करोड़ रुपये) के निवेश से प्रदेश की टेक्निकल ग्रोथ के साथ रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे।

हजारों करोड़ के निवेश प्रस्तावों पर मुहर
औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल ने ट्वीट कर बताया कि उनके विदेशी दौरे निवेश लाने के लिहाज से बेहद सफल रहे। उन्होंने लिखा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के एक्शन मंत्र से प्रेरित जर्मनी, बेल्जियम और स्वीडन के रोड शो बेहद सफल रहे। नौ दिन, तीन देश और हजारों करोड़ के निवेश प्रस्ताव और एमओयू प्राप्त हुए। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2023 संकल्प से सिद्धि और सिद्धि से समृद्धि का महामहोत्सव साबित होने जा रहा है।

19 दिसंबर को फ्रांस में रोड शो करेंगे डिप्टी सीएम
विदेशों में रोड शो व वन टू वन बिजनेस बैठकों का दौर 19 दिसंबर को भी जारी रहेगा। नीदरलैंड्स में रोड शो के बाद अब उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के मंत्री योगेंद्र उपाध्याय 19 दिसंबर को फ्रांस का दौरा करेंगे और रोड शो के जरिए यहां की दिग्गज कंपनियों को उप्र में निवेश के लिए प्रोत्साहित करेंगे। इस अवसर पर कुछ व्यापारिक समुदाय के प्रतिनिधियों से उनकी मुलाकात भी आयोजित की जाएगी। यहां से उत्तर प्रदेश सरकार को बड़े निवेश की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here