देश में वैक्सीन को लेकर अदार पूनावाला ने कही ये बात!

सीरम के सीईओ अदार पूनावाला ने 1 मई को इंग्लैंड में बिजनेस पार्टनर के साथ बैठक की। इसके बाद उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, 'इंग्लैंड में हमारे सभी साझेदारों और हितधारकों के साथ बैठक हुई। इस बीच कोविशील्ड का पुणे में उत्पादन युद्ध स्तर पर जारी है।'

देश में 1 मई से 18-44 आयु वर्ग वालों के लिए टीकाकरण शुरू किया गया है। इसके लिए बड़े पैमाने पर वैक्सीन की जरुरत है। वर्तमान में देश में निर्मित कोविशील्ड और कोवैक्सीन के साथ ही रुसी वैक्सीन स्पुतनिक वी भी उपलब्ध है। फिर भी वैक्सीन की कमी महसूस की जा रही है। इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा है कि पुणे में कोरोना वायरस रोधी वैक्सीन का उत्पादन युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। पूनावाला ने कहा कि भारत में वैक्सीन की कमी नहीं होने दी जाएगी।

बता दें कि अदार पूनावाला ने 1 मई को इंग्लैंड में बिजनेस पार्टनर के साथ बैठक की। इसके बाद उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, ‘इंग्लैंड में हमारे सभी साझेदारों और हितधारकों के साथ बैठक हुई। इस बीच कोविशील्ड का पुणे में उत्पादन युद्ध स्तर पर जारी है।’

ये भी पढ़ेंः धमकी या वैक्सीन निर्माण विस्तार! किस कारण सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ ने छोड़ा देश?

परिवार के साथ ब्रिटेन चले गए पूनावाला
बता दें कि सीआईआई भारत में ऑक्सफोर्ड/एस्ट्रेजेनिका की कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड का उत्पादन कर रही है। इस बीच कंपनी के सीईओ अदार पूनावाला अपने पूरे परिवार के सथ ब्रिटेन में चले गए हैं। उन्होंने बताया है कि भारत में भारी दबाव के कारण वे अपनी पत्नी और बच्चों के साथ लंदन में आ गए हैं। उन्होंने वैक्सीन को लेकर कई शक्तिशाली लोगों द्वारा धमकी देने की भी बात कही है।

बढ़ाई गई है सुरक्षा
भारत सरकार ने संभावित खतरों के देखते हुए पूनावाला को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। देश में किसी भी स्थान पर उनके साथ केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान उनकी सुरक्षा में तैनात रहेंगे। इनमें 4-5 कमांडों भी शामिल हैं।

व्यक्त किए जा रहे हैं संदेह
उनके अचानक देश छोड़कर चले जाने को लेकर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं व्यक्त की जा रही हैं। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने उनके इस निर्णय पर संदेह व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है।

व्यायवसायिक रणनीति
कुछ लोग ये भी कह कहे हैं कि वास्तव में वे अपने व्यापार को विदेश में शिफ्ट करना चाहते हैं। उन्होंने ये निर्णय अपनी व्यापारिक रणनीति के तहत लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here