ऑक्सीजन के लिए हाहकार के बीच मोदी सरकार का बड़ा निर्णय!

कोरोना महामारी के बीच ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए मोदी सरकार ने बड़ा निर्णय लिया है। इस निर्णय के अनुसार पीएम केयर्स फंड से देश में कुल 551 ऑक्सीजन उत्पादक संयत्र स्थापित किए जाएंगे।

कोरोना काल में ऑक्सीजन की भारी किल्लत को देखते हुए पीएम केयर्स फंड से देश में 551 उत्पादन संयंत्र लगाए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना को लेकर कहा है कि इन संयंत्रों को जल्द से जल्द कार्यात्मक बनाया जाएगा।

ये संयंत्र विभिन्न राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों के जिला मुख्यालय के सरकारी अस्पतालों में स्थापित किए जाएंगे।

जिला मुख्यालय के सरकारी अस्पतालों में लगाए जाएंगे ये संयंत्र
ये  प्लांटस स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के माध्यम से लगाए जाएंगे। पीएमओ की ओर से बताया गया है कि जिला मुख्यालय के सरकारी अस्पतालों में पीएएस(प्रेशर स्विंग ए़डसॉर्प्शन) जनरेशन प्लांट स्थापित करने के पीछे मूल उद्देश्य सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को बेहतर और मजबूत बनाना है। इससे यह सुनिश्ति किया जा सकेगा कि इनमें से प्रत्येक में कैप्टिव ऑक्सीजन पीढ़ी की सुविधा हो। बता दें कि पीएम केयर्स फंड ने इस साल की शुरुआत में देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों पर अतिरिक्त 162 डेडिकेटेड प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन (पीएसए) मेडिकल ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाने के लिए 201.58 करोड़ रुपये आवंटित किए थे।

इन-हाउस कैप्टिव ऑक्सीजन जनरेशन सुविधा उपलब्ध
बता दें कि इन-हाउस कैप्टिव ऑक्सीजन जनरेशन सुविधा, इन अस्पतालों और जिले की दिन प्रतिदिन की चिकित्सीय ऑक्सीजन की जरुरतों को पूरा करेगी। इसके आलावा तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन ( एलएमओ) कैप्टिव ऑक्सीजन पीढ़ी के लिए टॉप अप के रुप में काम करेगी। इस तरह की प्रणाली यह सुनिश्चित कर सकेगी कि जिले के सरकारी अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में अचानक व्यवधान न उत्पन्न हो सके और कोरोना मरीजों व अन्य जरूरतमंद मरीजों के लिए निर्बाध रूप से पर्याप्त ऑक्सीजन मिल सके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here