राकेश्वर सिंह को ‘अभिनंदन’ की तरह मुक्त कराने के लिए प्रदर्शन!

बीजापुर से माओवादियों द्वारा अपहृत किए गए कोब्रा कमांडों राकेश्वर सिंह मनहास की रिहाई में हो रही दे रही से देश भर में लोगो का गुस्सा बढ़ता जा रहा है।

छत्तीसगढ़ से माओवादी द्वारा अपहृत किए गए सीआरपीएफ के कमांडो राकेश्वर सिंह मनहास के परिजनों के साथ ही सैकड़ों लोगों ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन कर रहे लोगो ने मांग की कि कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मनहास को जल्द से जल्द मुक्त कराया जाए। उन्होंने कहा कि जिस तरह से सरकार ने अभिनंदन वर्धमान को पाकिस्तान से रिहा कराया था, उसी तरह राकेश्वर सिंह को भी माओवादियों के चंगुल से मुक्त कराया जाए।

बता दें कि माओवादियों ने 6 अप्रैल की रात उनके अपहरण किए जाने की पुष्टि की है। उन्होंने सरकार से कहा है कि अगर वह वार्ताकार नियुक्त करती है तो वे बातचीत करने को तैयार हैं।

जारी की तस्वीर
इस बीच नक्सलियों ने राकेश्वर सिंह मनहास की तस्वीर भी जारी की है। 7 अप्रैल को जारी इस तस्वीर में वे स्वस्थ दिख रहे हैं। तीन अप्रैल से लापता कोब्रा कमांडो राकेश्वर सिंह नकस्लियों द्वारा बंधक बनाए गए हैं।

परिजनों की मांग
मनहास की एक पांच साल की एक बच्ची है और वह परिवार में अकेले कमाने वाले व्यक्ति हैं। उनकी मां ने कहा है कि वे केवल अपने बेटे की सकुशल वापसी चाहती हैं। राकेश्वर सिंह की पत्नी मीनू सिंह और पुत्री ने भी केंद्र सरकार से उन्हें छुड़ाने की मांग की है।

ये भी पढ़ेंः कब होगा राजेश्वर का ‘अभिनंदन’?

लोगों में बढ़ रहा है गुस्सा
बीजापुर से माओवादियों द्वारा अपहृत किए गए कोब्रा कमांडों राकेश्वर सिंह मनहास की रिहाई में हो रही देरी से देश भर में लोगो का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। इसी क्रम में 7 अप्रैल को परिजनों के साथ ही अन्य लोगों ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया और अपना गुस्सा प्रकट किया।

नक्सलियों ने की पुष्टि
राकेश्वर सिंह मनहास सुरक्षित हैं। इसकी पुष्टि नक्सलियों ने पत्र भेजकर की है। नक्सलियों ने एक प्रेस नोट जारी किया है। जिसमें इस संदर्भ में जानकारी दी गई है। लेकिन इस बीच प्रश्न उठ रहा है कि दुश्मन पाकिस्तान का गला पकड़कर अपने वायु सेना विंग कमांडर अभिनंदन की मुक्ति का मार्ग प्रशस्त करनेवाला देश अपने भीतर छुपे दुश्मनों से राकेश्वर को कब छुड़ाएगा?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here