‘हिंदुस्थान पोस्ट’ सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन न्यूज पोर्टल पुरस्कार से सम्मानित

हिन्दुस्थान पोस्ट निष्पक्ष पत्रकारिता के मुख्य उद्देश्य से शुरू किया गया है। हम किसी पार्टी के नहीं हैं, हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं, इसलिए हमारा नाम हिंदुस्थान पोस्ट है। यह बात हिंदुस्थान पोस्ट की सलाहकार संपादक मंजिरी मराठे ने कही।

कोरोना काल में दुनिया लॉकडाउन में फंसी हुई थी। उस समय स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक की ओर से समाचार पोर्टल ‘हिन्दुस्थान पोस्ट’ का शुभारंभ किया गया था। महज डेढ़ साल में यह पोर्टल लाखों लोगों तक पहुंचने में कामयाब रहा है। ‘अर्थसंकेत’ पत्रिका ने इस पोर्टल को देखा और समाचार पोर्टल ‘हिंदुस्थान पोस्ट’ को शुक्रवार, 29 अप्रैल को ‘डिजिटल इंडिया 2022 – सर्वश्रेष्ठ ऑनलाइन समाचार पोर्टल’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पुरस्कार समारोह स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के मादाम कामा हॉल में आयोजित किया गया।

यह पुरस्कार हिंदुस्थान पोस्ट न्यूज पोर्टल के सलाहकार संपादक मंजिरी मराठे और तकनीकी विभाग के प्रमुख प्रमोद गणेशे ने स्वीकार किया। देवेंद्र भुजबल, पूर्व निदेशक-सूचना और जनसंपर्क विभाग, महाराष्ट्र; प्रसन्न लोहार- प्रमुख, डिजिटल और प्रौद्योगिकी, डीसीबी बैंक; सुधीर म्हात्रे, सर्वेसर्वा- एमईपीएल समूह; डिजिटल बिजनेस कोच; अमित बागवे और सह-संस्थापक रचना बागवे उपस्थित थे। पिछले छह वर्षों से, अर्थसंकेत उभरते उद्यमियों को पुरस्कार प्रदान कर रहा है।

ये भी पढ़ेंः डिजिटल मीडिया को संगठित करना जरुरी ! ‘अर्थसंकेत डिजिटल इंडिया 2022’ पुरस्कार समारोह में बनी सहमति

 राष्ट्रहित में काम कर रहा है ‘हिंदुस्थान पोस्ट’- मंजिरी मराठे
हिन्दुस्थान पोस्ट निष्पक्ष पत्रकारिता के मुख्य उद्देश्य से शुरू किया गया है। हम किसी पार्टी के नहीं हैं, हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं, इसलिए हमारा नाम हिंदुस्थान पोस्ट है। यह बात हिंदुस्थान पोस्ट की सलाहकार संपादक मंजिरी मराठे ने कही। स्वातंत्र्यवीर सावरकर ने हमेशा राष्ट्र को प्रथम माना। हिन्दुस्थान पोस्ट का भी यही उद्देश्य है। इसलिए हम राष्ट्रहित के लिए काम कर रहे हैं। कोरोना काल में जब पूरी दुनिया रुकी हुई थी, हमारे सभी साथी इस न्यूज पोर्टल को स्थापित करने के लिए दिन-रात काम कर रहे थे।

 स्वप्निल सावरकर के अनुभव का मिला लाभ
मंजिरी मराठे ने कहा कि महज डेढ़ साल में हिंदुस्थान पोस्ट न्यूज पोर्टल लाखों लोगों तक पहुंचा है। इस पोर्टल के संपादक स्वप्निल सावरकर को डिजिटल क्षेत्र में काफी अनुभव है। यही कारण है कि पोर्टल कम समय में सफल हो गया। इस अवॉर्ड का श्रेय संपादक स्वप्निल सावरकर को जाता है। मंजिरी मराठे ने यह भी कहा कि हम जो काम करते हैं, वह लोगों तक पहुंचता है, जिसे इस पुरस्कार के माध्यम से स्वीकार किया जा रहा है। हम और भी अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचना चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here