#Hinduphobia: चंपा षष्ठी पर कर्नाटक के मंदिर में न लगें गैर हिंदुओं के स्टाल, हिंदू संगठनों की मांग के पीछे का क्या है कारण?

देश में लव जिहाद के षड्यंत्र और हिंदू द्वेष की घटनाओं से चिंता है। हलाल का कारोबार लगातार भय उत्पन्न कर रहा है। ऐसे में हिंदू संगठन समाज को सुरक्षित रखने के लिए कार्य कर रहे हैं।

देश में हिंदुओं के विरुद्ध चल रहे षड्यंत्रों को लेकर हिंदू संगठनों में आक्रोश है। इसे देखते हुए कर्नाटक के कुक्के सुब्रमण्य मंदिर में होनेवाले चंपा षष्ठी उत्सव के लिए हिंदू जागर वेदिके, हिंदू जागरण फोरम जैसे संगठनों ने बड़ी मांग की है। उनकी मांग है कि, इस उत्सव में लगनेवाले सैकड़ो स्टाल और दुकानों में हिंदू धर्म न माननेवालों का व्यवसाय प्रतिबंधित किया जाए।

दिनों दिन बढ़ रही लव जिहाद की घटनाएं, मतांतरण की खबरों से हिंदू संगठन चिंतित हैं। इसे देखते हुए अब समाज की सुरक्षा के लिए कर्नाटक के हिंदू जागर वेदिके, हिंदू जागरण फोरम जैसे संगठनों ने आगामी 29 तारीख को होनेवाले चंपा षष्ठी उत्सव में गैर हिंदुओं के व्यवसाय पर बंदी लगाने की मांग की है। इस अवसर पर कर्नाटक के प्रसिद्ध कुक्के सुब्रमण्य मंदिर में बड़ा उत्सव होता है। जिसमें राज्य के लाखो श्रद्धालू हिस्सा लेते हैं। इस उत्सव में सैकड़ो दुकान और स्टाल कुक्के सुब्रमण्य कॉन्स्टिटुएन्सी में लगते हैं।

ये भी पढ़ें –

नियमों के अंतर्गत मांग
हिंदू जागरण फोरम के अनुसार हिंदू रिलीजियस एंडोमेन्ट डिपार्टमेंट के नियम में इस बात का उल्लेख है कि, कुक्के सुब्रमण्य कॉन्स्टिटुएन्सी में उत्सव के बीच हिंदू धर्म न माननेवालों को दुकान व स्टाल न दिया जाए। इसके अनुसार संगठन ने कुक्के सुब्रमण्य कॉन्स्टिटुएन्सी को पत्र लिखकर मांग की है। जबकि हिंदू जागर वेदिके ने पोस्टर भी लगा दिया है। हिंदू संगठनों का यह कदम हिंदू द्वेश से रक्षा के लिए उठाए जाने की बात की जा रही है। इस अवसर पर बड़ी संख्या में महिलाएं और बच्चे आते हैं, जिनकी सुरक्षा आवश्यक है। वहीं, अन्य धर्मियों के पूजा स्थलों में भी ऐसे नियम बने हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here