‘रणरागिनी’ का यलगार, लव जिहादी आफताब को फांसी पर लटकाएं!

हिंदू महिलाओं, प्रतीकों और राष्ट्र पर हो रहे हमलों को लेकर हिंदु संगठन लोगों में जनजागृति फैला रहे हैं। श्रद्धा वालकर की घटना लव जिहादियों के जघन्य काम का उदाहरण है।

हिन्दू युवती श्रद्धा वालकर को प्रेमजाल में फंसाकर उसकी क्रूरता से हत्या करनेवाले आफताब को फांसी पर लटकाने की मांग हिंदू जन जागृति संगठन की महिला शाखा ‘रणरागिनी’ संगठन ने की है। संगठन ने सरकार से लव जिहाद रोधी कानून बनाने की मांग भी की है। इसके साथ ही युवतियों और परिजनों से इस्लाम धर्मियों के षड्यंत्र के प्रति जागरूक होने की अपील की है। संगठन ने इस्लामी षड्यंत्र के विरुद्ध यलगार का बिगुल फूंका है।

मुंबई में किया गया दिल का सौदा दिल्ली में शरीर के पैंतीस टुकड़ों में हो गया। मुंबई की युवती श्रद्धा वालकर ने प्रेमी आफताब से ऐसी आशा भी नहीं की होगी कि, उसका आफताब ऐसा क्रूर निकलेगा। जांच में सामने आई जानकारी के अनुसार लव जिहादी आफताब के चार अन्य हिंदू युवतियों से संबंध थे। ऐसे नर पिशाच के विरुद्ध ‘रणरागिनी’ संगठन अब सड़कों पर उतरा है। संगठन की ओर से महिलाओं ने प्रदर्शन किया और मांग की है कि, लव जिहादी आफताब को फांसी पर लटकाया जाए।

कब जागेंगे हिंदू?
‘रणरागिनी’ संगठन की डॉ. दीक्षा पेंडभाजे ने कहा है कि, ‘हिन्दू लड़कियों को प्रेमजाल में फंसाकर उनका धर्म परिवर्तन, उनसे ‘निकाह’ करने और अस्वीकार करने पर बलात्कार करने, ब्लैकमेल करने और हत्या करने जैसे हजारों प्रकरण इससे पूर्व उजागर हुए हैं। हमारी युवतियों को अपने षड्यंत्र में फंसाने के लिए ये नराधम हिंदुओं के घर तक पहुंच गए हैं। हिन्दू अभिभावक और हिन्दू युवतियां कब जागेंगे? क्या आप पुनः अपनी बेटी के 35 टुकडे होने देनेवाले हैं? श्रद्धा वालकर की क्रूरतम हत्या में लव जिहादी आफताब को तत्काल फांसी पर लटकाया जाए, यह मांग मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री से है।’

ये भी पढ़ें – आफताब की एक और क्रूर हरकत का पर्दाफाश, 4 हिंदू लड़कियों के साथ था अफेयर?

सरकार से मिलेंगी ‘रणरागिनी’
श्रद्धा वालकर की जघन्य हत्या के विरोध में हिन्दू जनजागृति समिति की महिला शाखा ‘रणरागिनी’ की ओर से मुंबई में आंदोलन किया गया, जिसमें कई हिन्दू संगठनों ने सहभाग लिया। डॉ. दीक्षा पेंडभाजे ने मांग की है कि, ‘लव जिहाद’ की घटनाएं रोकने के लिए आगामी शीतकालीन अधिवेशन में ‘लव जिहाद विरोधी कानून बनाया जाए’, इसके लिए संगठन शीघ्र ही मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री से मिलेगा।

महिला आयोग की कार्रवाई पर प्रश्नचिन्ह
दीक्षा पेंडभाजे ने महाराष्ट्र महिला आयोग की कार्यप्रणाली पर भी प्रश्न चिन्ह खड़ा किया, ‘एक महिला पत्रकार को ‘पहले तुम कुमकुम लगाओ, उसके उपरांत मैं तुम से बात करूंगा’, ऐसा वात्सल्य भाव से बोलनेवाले भिडे गुरुजी को नोटिस भेजनेवाली राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष क्या ‘लव जिहाद’ की बढ़ती घटनाओं पर कुछ बोलेंगी? राज्य में युवतियों एवं महिलाओं के लापता होने का भयावह स्तर देखते हुए वे कार्रवाई करेंगी अथवा नहीं? इन प्रकरणों को गंभीरता से लेते हुए राज्य का गृह विभाग इसका जांच कराए ऐसी मांग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here