इसलिए गुजरात विधान सभा में महाराष्ट्र पुलिस की वाहवाही

महाराष्ट्र पुलिस की तुलना विश्व की उन्नत पुलिस से की जाती है। यह उसकी जांच प्रणाली और अपराधों पर नियंत्रण के कारण है। अपने इसी माद्दे का प्रदर्शन पुलिस ने जीतू पटेल के अपहरण के मामले में किया और सात आरोपियों को गिरफ्तार करके अपह्रत को सकुशल छुड़ा लिया।

महाराष्ट्र में पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर एक असंतोष की भावना लोगों के बीच है। इस परिस्थिति में पड़ोसी गुजरात की विधान सभा में महाराष्ट्र पुलिस की स्तुति की जा रही है। यह मामला वलसाड के एक व्यवसाई के अपहरण का है। जिसे महाराष्ट्र पुलिस की सहायता से गुजरात पुलिस ने सकुशल मुक्त करा लिया।

22 मार्च, 2021 को उमरगांव के भवन निर्माता जीतू पटेल का चार लोगों ने पिस्तौल दिखाकर अपहरण कर लिया। इसके बाद अपहरणकर्ताओं ने जीतू पटेल के मोबाइल से ही परिवार के लोगों को फोन कर 30 करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी। इस घटना के बाद उमरगांव के व्यवसाइयों में भय का माहौल था। इस प्रकरण में पुलिस ने 23 मार्च, 2021 को आपराधिक मामला दर्ज किया।

पुलिस और पब्लिक के साथ से सफलता
इस घटना में वलसाड पुलिस, सूरत क्राइम ब्रांच और गुजरात एटीएस अपहरणकर्ताओं की खोजबीन में लगी थी। इसके लिए लगभग एक हजार सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया। इस बीच जीतू पटेल में मित्र और प्रसिद्ध उद्योगपति प्रशांत कारूलकर ने वसई-विरार पुलिस आयुक्त सदानंद दाते से भेंट करके सहायता की मांग की। प्रशांत कारूलकर के निवेदन पर कार्रवाई करते हुए आयुक्त ने अपराध शाखा के निरिक्षक जितेंद्र वनकोटी को इस प्रकरण की जांच सौंपी। पुलिस को इस प्रकरण की जानकारी देने में कारूलकर के साथ राजू सुब्रमण्यम ने विस्तृत जानकारी दी।

राजधानी एक्सप्रेस से खुला राज
वसई-विरार पुलिस ने इस प्रकरण की जांच के लिए विशेष दल का गठन किया था। इस दल को सीसीटीवी में दो आरोपी राजधानी एक्सप्रेस से मुंबई में आते दिखे। पुलिस ने इन लोगों को बोरीवली में पकड़ लिया। पूछताछ में इन दोनों ने जानकारी दी कि जीतू पटेल को उनके दो साथियों ने रत्नागिरी के जंगल में पकड़ कर बंदी बनाया है। जिसके बाद वलसाड पुलिस, सूरत क्राइम ब्रांच, गुजरात एटीएस और स्थानीय पुलिस ने छापा मारा और जीतू पटेल को सुरक्षित छुड़ा लिया।

सात लोग गिरफ्तार
इस घटना में पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। जिसमें पप्पू चौधरी, दीपक उर्फ अरविंद यादव, अजमल हुसैन अन्सारी, अयाज, मोबिन उर्फ टकल्या, इशाक मुजावर और जितवेश कुमार उर्फ बबलू कुमार शामिल हैं। इनके पास से एक पिस्तौल, 2 मैग्जीन, 8 फोन, सिमकार्ड, नकदी बरामद हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here