देश में बूस्टर डोज की शुरुआत! जान लें, ये जरुरी बात

बूस्टर डोज लेना काफी आसान और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार लाभदायक है। इससे कोरोना के खतरे से काफी हद तक बचा जा सकता है। लेकिन इसे प्राप्त करने से पहले इसके नियमों के बारे में जानकारी जरुरी है।

देश में 10 जनवरी से स्वास्थ्यकर्मियों, अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ ही 60 वर्ष से अधिक उम्र और गंभीर बीमारीयों से पीड़ित लोगों को कोविड-19 टीका की बूस्टर डोज दी जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 दिसंबर को इस बारे में घोषणा की थी।

बूस्टर डोज लेना काफी आसान और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार लाभदायक है। इससे कोरोना के खतरे से काफी हद तक बचा जा सकता है। लेकिन इसे प्राप्त करने से पहले इसके नियमों के बारे में जानकारी जरुरी है।

10 महत्वपूर्ण बातें
1. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि एहतियाती टीके की खुराक के लिए पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं है। जो पात्र हैं, वे सीधे किसी टीकाकरण केंद्र पर जा सकते हैं। सभी वयस्कों के लिए बूस्टर डोज पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

2. स्वास्थ्य और अग्रिम पंक्ति के कर्मियों के अलावा, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और अन्य बीमारियों से ग्रसित 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के पास अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार “एहतियाती खुराक” लेने का विकल्प है।

3. जो लोग इसके पात्र हैं, वे कोविड वैक्सीन की दूसरी खुराक प्राप्त करने के 9 महीने बाद ही बूस्टर डोज ले सकेंगे।

4. तीसरी डोज उसी वैक्सीन की दी जाएगी, जो पहले और दूसरे दौर में ली गई है। केंद्र ने स्पष्ट किया है कि इसमे कोई मिक्स एंड मैच नहीं होगा।

5. इसका मतलब यह है कि जिन लोगों को सीरम इंस्टीट्यूट कोविशील्ड वैक्सीन की दो खुराकें मिली हैं, उन्हें उसी वैक्सीन की तीसरी खुराक मिलेगी। जिन्होंने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन ली है, उन्हें तीसरी डोज भी इसी की लेनी है।

6. ओमिक्रोन खतरे के मद्देनजर बूस्टर डोज की बढ़ती मांग के बीच प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने “एहतियाती खुराक” की घोषणा की थी।

7. मोदी ने 25 दिसंबर को कहा था, “देश को सुरक्षित रखने में कोरोना योद्धाओं, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन कर्मियों का बहुत बड़ा योगदान है। इसलिए, एहतियात के तौर पर, सरकार ने स्वास्थ्य देखभाल और फ्रंटलाइन कर्मियों के लिए” एहतियाती खुराक “प्रदान करने का फैसला किया है।”

8. बूस्टर डोज लेने से पहले ही ओमिक्रोन के कारण आई तीसरी लहर ने कई डॉक्टरों और स्वास्थ्य पेशेवरों को संक्रमित कर दिया है। महानगरीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य कर्मियों में संक्रमण विशेष रूप से अधिक है।

9. सभी कोविड टीके, चाहे वे भारत, इजराइल, अमेरिका, यूरोप, यूके या चीन के हों, मुख्य रूप से रोग उपचार हैं। वे संक्रमण को नहीं रोकते हैं। एहतियाती खुराक मुख्य रूप से संक्रमण की गंभीरता को कम करती है।

10. यूके में एक अध्ययन में पाया गया कि टीके की तीसरी खुराक अस्पताल में भर्ती होने से ओमिक्रॉन के संक्रमण में 88% तक सुरक्षा प्रदान कर सकती है।

टीकाकरण केंद्र पर कौन-से दस्तावेज ले जाने चाहिए?
यदि आप बूस्टर डोज लेने जा रहे हैं, तो आपको अपने साथ एक वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस ले जाना चाहिए। उसके आधार पर आपको वैक्सीन की बूस्टर डोज दी जाएगी।

ये भी पढ़ेंः बूस्टर डोज लेकर ऐसे लोग बनेंगे बाहुबली, कोरोना को देंगे मात!

क्या स्वास्थ्य कर्मियों के परिवार को बूस्टर मिल सकता है?
नहीं, केवल उन फ्रंटलाइन और स्वास्थ्य कर्मियों को बूस्टर या एहतियाती खुराक दी जाएगी, जो कोरोना काल में अस्पताल के अंदर या बाहर सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं। जानकारी के लिए बता दें कि फ्रंटलाइन वर्कर्स में स्वास्थ्य कर्मी, पुलिस कर्मी और अन्य सरकारी कर्मचारी शामिल हैं।

क्या मुझे बूस्टर डोज के बाद वैक्सीन सर्टिफिकेट मिल सकता है?
हां, अगर आपको टीके की तीसरी खुराक मिली है, तो आपको हमेशा की तरह आपके पंजीकृत मोबाइल फोन पर इसका प्रमाण पत्र दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here