पुणेकरों को ‘दादा’ का अल्टीमेटम!

उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने पुणे में जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक प्रतिनिधियों और पुलिस विभाग के प्रतिनिधियों की एक बैठक बुलाई।

पिछले कुछ दिनों में पुणे और पिंपरी-चिंचवड में रोगियों की संख्या बढ़ रही है। प्रशासन के लिए यह चिंता का विषय था। संक्रमण के साथ ही शहर में दैनिक मौत का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। कुछ दिनों में, यह संक्रमितों की संख्या मुंबई की तुलना में भी अधिक है। इसलिए एक कठिन निर्णय पुणे में लिए जाने की संभावना थी। उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने पुणे में जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक प्रतिनिधियों और पुलिस विभाग के प्रतिनिधियों की एक बैठक बुलाई। उसके बाद एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए, अजित पवार ने 2 अप्रैल तक पुणेकर और पिंपरी-चिंचवड़कर को अल्टीमेटम दिया है। उन्होंने कहा कि लोगों को उन नियमों का पालन करना चाहिए, जिन्हें निर्धारित किया गया है। अगर उनका अनुपालन नहीं किया जाता है, तो 2 अप्रैल को लॉकडाउन से संबंधित कठोर निर्णय लेना होगा।

अजित पवार की नागरिकों से अपील
बैठक में अजित पवार ने पुणे और पिंपरी चिंचवड़ की स्थिति की समीक्षा की। इसके बाद कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। सबसे महत्वपूर्ण निर्णय 2 अप्रैल को लिया गया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह गरीबों की आजीविका का सवाल  है। हम अपील कर रहे हैं कि ऐसा न होने दें। यदि ऐसा नहीं होने देना है,तो लोगों को नियमों का पालन करना चाहिए। यह एक तथ्य है कि अतीत की तुलना में मृत्यु दर में कमी आई है। लेकिन स्थिति अभी भी विकट है। अगर यह जारी रहा, कठोर निर्णय लेने पर मजबूर होना होगा। फैसला 2 अप्रैल तक लिया जाएगा। इसलिए सभी से अपील है कि नियमों का पालन करें। मास्क पहनें,सैनिटाइज़र का उपयोग करें।

ये भी पढ़ेंः ‘नोट’ में छिपा है लेडी सिंघम के सुसाइड का ‘राज!’

खास बातें
1) शुरुआत में निजी अस्पतालों में 80 प्रतिशत बेड लिए जाते थे,अब कोरोना के लिए 50 प्रतिशत बेड आरक्षित करने का निर्णय लिया गया है।
2) 1 अप्रैल से सभी जनप्रतिनिधियों के निजी कार्यक्रमों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा।
3) स्कूल और कॉलेज 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे।
4) मॉल और सिनेमाघरों में 50% उपस्थिति का नियम रहेगा। सार्वजनिक बस सेवाएं जारी रहेंगी।
5) शादी समारोह में 50 से अधिक लोगों के शामिल होने पर पाबंदी। अंतिम संस्कार के लिए केवल 20 लोगों को अनुमति।
6) सार्वजनिक पार्क और उद्यान केवल सुबह खुले रहेंगे।

टीकाकरण बढ़ाने पर जोर
उप मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मैंने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से संपर्क किया है और उनसे पूछा है कि क्या दोनों शहरों में  टीकाकरण केंद्र बढ़ाए जा सकते हैं। वर्तमान में यहां कुल 316 टीकाकरण केंद्र हैं। तो क्या वे इसे दोगुना कर सकते हैं? ऐसा करने से पुणे में सबसे अधिक टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जा सकता है और अधिकतम नागरिकों को टीका लगाया जा सकता है।

ये भी पढ़ेंः मुंबईः सबसे बड़े नशे के सौदागर का बेटा चढ़ा एनसीबी के हत्थे!

मदद का किया वादा
पवार ने बताया कि जावड़ेकर ने मदद करने का वादा किया है। हम बेड की संख्या बढ़ाना चाहते हैं। टीकाकरण दर को 316 से 600 केंद्रों तक बढ़ा सकते हैं। टीके की खुराक के बीच का गैप कम किया जाएगा या नहीं, इस मुद्दे को केंद्रीय मंत्री के संज्ञान में लाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here