खुशखबरी… भारत में ऐसे ‘गो कोरोना गो’ हुआ सफल

भारत कोरोना संक्रमण को लेकर खुशियों की खबरें बांट रहा है। वर्ष 2020 भारत के 1 लाख 47 हजार जीवन के लिए अंतिम वर्ष बन गया। वे कोरोना और जीवन के बीच चले 20-20 को जीत नहीं पाए लेकिन आबादी के बड़े वर्ग ने ताली, थाली, दीया प्रज्वलित करके जागरूकता फैलाई और अपनी देखभाल स्वयं करके संक्रमण की गति को मंद कर दिया है।

भारत में कोरोना संक्रमण की गति धीमी पड़ती जा रही है। देश में अब जो संक्रमितों के आंकड़े सामने आ रहे हैं वो 22 हजार के आस-पास पहुंच गए हैं। इससे देश में जो गो करोनो गो का स्लोगन चला और लोगों ने मास्क-दूरी और हांथ धोना जरूरी को अपनाया उसका लाभ पूरे देश को मिल रहा है।

ये भी पढ़ें – एमपी : लव से जिहाद नाकुबूल है! 

दुनिया के सात देशों में कोरोना का नया संक्रमण पहुंच चुका है। ब्रिटेन से विश्व के 40 देशों ने विमान की आवाजाही रोक दी है। इस बीच जनसंख्या के लिहाज से विश्व में दूसरा देश भारत कोरोना संक्रमण को लेकर खुशियों की खबरें बांट रहा है। वर्ष 2020 भारत के 1 लाख 47 हजार जीवन के लिए अंतिम वर्ष बन गया। वे कोरोना और जीवन के बीच चले 20-20 को जीत नहीं पाए लेकिन आबादी का बड़ा वर्ग ने ताली, थाली, दीया और अपनी देखभाल स्वयं करके संक्रमण की गति को मंद कर दिया है। इसका परिणाम ये है कि छह महीने बाद कोरोना संक्रमितों की मौत का आंकड़ा 300 से नीचे चला गया है।

ये भी पढ़ें – धारावी ने दी ये खुशखबरी!

आंकड़ों की अंकड़ पड़ी ढीली

देश में कोरोना संक्रमण का उपचार करा रहे लोगों की संख्या को लेकर भी अच्छी खबर ये है कि यह आंकड़ा लगातार गिर रहा है। देश में कुल संक्रमितों की संख्या 1,01,69,118 का मात्र 2.77 प्रतिशत उपचाराधीन संक्रमित रह गए हैं। देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा जिस अंकड़ से बढ़ रहा था वो भी मंद पड़ा है।

  • 7 अगस्त 20 लाख पार
  • 23 अगस्त 30 लाख
  • 5 सितंबर 40 लाख
  • 16 सितंबर 50 लाख
  • 28 सितंबर 60 लाख
  • 11 अक्तूबर 70 लाख
  • 29 अक्तूबर 80 लाख
  • 20 नवंबर 90 लाख
  • 19 दिसंबर 1 करोड़
  • 26 दिसंबर 1, 01,69,118

दुनिया कोरोना के नए संक्रमण से सहमी हुई है उस बीच भारत में एम्स के अनुसार इससे डरने की आवश्यकता नहीं है। कोरोना में प्रति एक-दो माह में म्यूटेशन होता रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here