खसरे का आतंकः बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र ने इन राज्यों में नियुक्त कीं टीमें

टीम क्षेत्र में सक्रिय मामलों की खोज सुनिश्चित करने के लिए राज्यों के साथ और पहचान किए गए मामलों के परीक्षण के लिए वायरस रिसर्च एंड डायग्नोस्टिक लेबोरेटरी (वीआरडीएल) के साथ भी समन्वय करेगी।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने खसरे के मामलों में वृद्धि का जायजा लेने के लिए रांची (झारखंड), अहमदाबाद (गुजरात) और मलप्पुरम (केरल) में तीन उच्च-स्तरीय बहु-विषयक 3-सदस्यीय टीमों को तैनात करने का निर्णय लिया है।

टीमें सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को स्थापित करने में राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरणों की सहायता करेंगी और अपेक्षित नियंत्रण उपायों के संचालन की सुविधा प्रदान करेंगी।

राज्य के स्वास्थ्य विभागों की सहायता करने के लिए क्षेत्र का दौरा
तीन शहरों में रिपोर्ट किए जा रहे खसरे के बढ़ते मामलों के प्रबंधन के लिए टीमें सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों, प्रबंधन दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल के संदर्भ में प्रकोप की जांच करने और राज्य के स्वास्थ्य विभागों की सहायता करने के लिए क्षेत्र का दौरा भी करेंगी। टीम क्षेत्र में सक्रिय मामलों की खोज सुनिश्चित करने के लिए राज्यों के साथ और पहचान किए गए मामलों के परीक्षण के लिए वायरस रिसर्च एंड डायग्नोस्टिक लेबोरेटरी (वीआरडीएल) के साथ भी समन्वय करेगी।

विशेषज्ञ होंगे शामिल
रांची जाने वाली केंद्रीय टीम में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (नई दिल्ली) और राम मनोहर लोहिया अस्पताल (नई दिल्ली) के विशेषज्ञ शामिल हैं। पीएचओ, मुंबई, कलावती सरन चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल (नई दिल्ली) और क्षेत्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कार्यालय (अहमदाबाद) के विशेषज्ञ अहमदाबाद जाने वाली केंद्रीय टीम में शामिल होंगे। मलप्पुरम की टीम में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के क्षेत्रीय कार्यालय (तिरुवनंतपुरम), जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पुडुचेरी) और लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज (नई दिल्ली) के विशेषज्ञ शामिल होंगे।

वरिष्ठ क्षेत्रीय निदेशक, परिवार कल्याण के क्षेत्रीय कार्यालय (झारखंड) गुजरात और केरल अपनी यात्राओं के संबंध में संबंधित टीमों के साथ समन्वय करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here