आदिवासी समाज के 30 लोगों ने की हिंदू धर्म में घर वापसी! कही ये बात

आदिवासी समाज की ओर से ऐसे लोगों को अपने मूल धर्म, संस्कृति रीति रिवाजों में पुन: शामिल किया गया, जो धर्मांतरण कर दूसरे धर्म में चले गए थे।

आवापल्ली जनपद के ग्राम चेरकडोडी में आयोजित ग्रामीणों की सामाजिक बैठक में धर्मांतरित ककेम कुटुम परिवार के लोगों ने अपना घर वापसी कर पुन: आदिवासी समाज को अपना लिया है। धर्मांतरित 30 लोगों के घर वापसी पर आदिवासी समाज के लोगों ने समाज के रिवाज अनुसार शुद्धिकरण करवाकर समाज में उनका स्वागत किया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आवापल्ली जनपद के ग्राम चेरकडोडी में आयोजित सामाजिक बैठक में देव आनाल पेन व आनागुंडा के समक्ष ककेम कुटुम परिवार से आनाल पेन, पेन पुरखा, प्रकृति शक्ति, रीति रिवाजों, रूढ़ी प्रथाओं, परंपराओं और नीति नियम आदि को छोडक़र धर्मांतरण कर इसाई धर्म मानते आ रहे थे। ऐसे परिवारों को जो अन्य किसी धर्म को अपना लिए थे। आदिवासी समाज की ओर से ऐसे लोगों को अपने मूल धर्म, संस्कृति रीति रिवाजों में पुन: शामिल किया गया है।

ये भी पढ़ें – राजस्थानः .. और मान गए नाराज कांग्रेस विधायक, उदयपुर जाने को तैयार

समाज प्रमुख विरैया ने बताया कि, इन 30 सदस्य जो धर्मांतरण कर चुके थे, उन्हें समझाइश देकर अपने देवी-देवता के समक्ष पुन: रीति रिवाज के अनुसार शामिल होकर अपने संस्कृति व परपंरा को मानते हुए मतांतरण से तौबा कराया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here