नेपाल में लापता विमान की खोज में बाधा बना खराब मौसम, यात्रियों की तलाश जारी

नेपाल से उड़ान भरने के बाद हादसे का शिकार हो गए विमान के संभावित स्थलों पर तलाशी अभियान दुर्गम पर्वतीय क्षेत्र और खराब मौसम के कारण बाधित हो रहा है।

नेपाल में 29 मई की सुबह उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद लापता हुए विमान को लेकर अभी तक ठीक-ठीक जानकारी नहीं मिली है। इस विमान में मुंबई के एक परिवार के चार सदस्यों समेत 22 अन्य लोग भी हैं। खराब मौसम, बादल छाने और रात होने के कारण खोज अभियान को रोक दिया गया है।

नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने जारी एक बयान में कहा कि काठमांडू से 200 किलोमीटर पूर्व में स्थित पोखरा से सुबह सवा दस बजे उड़ान भरने वाले तारा एयर के विमान की स्थिति अभी तक पता नहीं चल सकी है।

तलाशी लगातार जारी
बयान में आगे कहा कि संभावित स्थलों पर तलाशी अभियान दुर्गम पर्वतीय क्षेत्र और खराब मौसम के कारण बाधित हुआ है, जिससे विमान की स्थिति का अभी तक पता नहीं चला है। हालांकि, बचाव समन्वय केंद्र 24 घंटे खुला है और हवाई तथा जमीनी मार्गों से तलाश अभियान तेज किया जाएगा। सेना का एक हेलीकॉप्टर के साथ ही एक निजी हेलीकॉप्टर तलाश अभियान में शामिल है।

22 यात्री थे सवार
विमानन कंपनी तारा एयर के प्रवक्ता सुदर्शन बरतौला ने बताया कि विमान में चार भारतीय, दो जर्मन और 13 नेपाली यात्रियों के अलावा चालक दल के तीन सदस्य सवार थे। उन्होंने कहा कि विमान पोखरा से मध्य नेपाल स्थित मशहूर पर्यटक शहर जोमसोम जा रहा था।

महाराष्ट्र के हैं चारों भारतीय
विमानन कंपनी ने यात्रियों की सूची जारी की है, जिसमें भारतीयों की पहचान अशोक कुमार त्रिपाठी, उनकी पत्नी वैभवी बांडेकर त्रिपाठी और उनके दो बच्चों धनुष त्रिपाठी तथा ऋतिका त्रिपाठी के रूप में की गई है। यह परिवार मौजूदा समय में मुंबई के नजदीक ठाणे में रह रहा है।

खास बातें
-नेपाली सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि बचाव दलों के साथ सैनिक और हेलीकॉप्टर संभावित घटनास्थल का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं और ऐसा माना जा रहा है कि यह जगह मुस्तांग में लेटे या उसके आसपास हो सकती है।

-प्रवक्ता ने बताया कि खराब मौसम के कारण कम दृश्यता से प्रयास बाधित हो रहे हैं। विमान का अभी तक पता नहीं लग पाया है। हम उस स्थान पर पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं जहां स्थानीय लोगों ने कथित तौर पर कुछ जलते हुए देखा है। जब हमारे सैनिक उस स्थान पर पहुंच जाएंगे तभी हम आधिकारिक और स्वतंत्र रूप से कुछ कह सकते हैं।

-उन्होंने बताया कि सेना ने अंधेरा होने और विपरीत मौसम के कारण आज के लिए तलाश और बचाव प्रयास रोक दिए हैं। तलाशी अभियान सोमवार सुबह हवा और जमीनी मार्ग दोनों से फिर से शुरू होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here