अविष्कार: ओमीक्रॉन को लेकर मिली बड़ी सफलता

ओमीक्रॉन को लेकर विश्व में हाहाकार मचा हुआ है, इसके बीच भारत में संक्रमितों के ठीक होकर घर लौटने का क्रम शुरू है।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन की पहचान करने में दो से तीन दिनों का समय लग रहा है, लेकिन अब असम में एक ऐसी किट का आविष्कार हुआ है जिसके जरिए सिर्फ दो घंटे में ओमीक्रोन संक्रमण का पता चल सकेगा। इसका आविष्कार डिब्रूगढ़ स्थित आईसीएमआर ने किया है। इस किट ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों के मन में उम्मीद की किरण पैदा कर दी है।

डिब्रूगढ़ में आईसीएमआर के शोधकर्ता डॉ. बिश्वजीत बरकटकी ने शनिवार को बताया कि यह किट प्रोटीन एनालिसिस की प्रक्रिया के तहत तैयार की गई है। उन्होंने बताया कि इस किट को कोलकाता परीक्षण के लिए भेजा गया था, जहां पर इसकी विशेषज्ञता 100 प्रतिशत पाई गई है। किट को आगे के परीक्षण के लिए पुणे भेजा गया है।

ये भी पढ़ें – चोरों से नहीं बच पाया महाराष्ट्र का गृह मंत्रालय… मंत्री के निजी सचिव का वो बैग चोरी

डॉ. बरकटकी ने कहा कि यह किट महज दो घंटे में 100 फीसदी की गारंटीशुदा दर पर ओमीक्रोन संक्रमण का पता लगा सकेगी। उल्लेखनीय है कि भारत में अब तक 33 लोग ओमीक्रोन से संक्रमित हो चुके हैं, जिसमें सर्वाधिक 17 केस महाराष्ट्र से हैं। यह वायरस दुनियाभर के 59 देशों में फैल चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here